भारत की नई संसद भवन: प्रगति और विवाद का एक प्रतीक

भारत की नई संसद भवन, जो एक अमरीकी संगठन “आईआईएससी” (Indian Institute of Architects) द्वारा डिजाइन किया गया है, एक प्रगतिशील और विवादास्पद एक्सप्रेशन है। इसका निर्माण विवादों और बहुमत की चुनौतियों के बीच हुआ है और इसके आधुनिक डिजाइन ने विभिन्न राजनीतिक, वास्तुकला और सामाजिक अभिव्यक्ति के मुद्दों को उजागर किया है।

यह नई संसद भवन, जो दिल्ली के राजपथ पर स्थित है, नगर निगम क्षेत्र को अत्याधुनिक और आधुनिक अर्थान्वित करने का प्रयास करता है। इसका डिजाइन अत्याधुनिकता, प्रगति, और स्थायित्व के साथ संगठित है, जो एक ऐतिहासिक और राष्ट्रीय नगरीय परंपरा के साथ मिलकर एक विस्मयजनक ताजगी की भावना को प्रदर्शित करता है।

यह भवन कई ऊंचाईयों और आधुनिकता के प्रतीक सुंदर आर्किटेक्चरल उपकरणों से सजा हुआ है। इसका प्रमुख आकर्षण स्वर्णिम गुंबद है, जो नई संसद की स्थायित्व और महत्व को प्रतिष्ठित करती है। इसके अलावा, यह भवन मॉडर्न आर्किटेक्चर के द्वारा निर्मित आकारों, सतहों, और संरचनाओं का विस्तार है, जो उदात्तता का प्रतीक हैं।

इस संसद भवन के डिजाइन में विवाद भी शामिल है। कुछ लोगों का मानना है कि यह डिजाइन अधिक खर्चीला है और एक आधुनिक देश में प्रचलित समस्याओं को अनदेखा करता है। वे इसे एक राजनीतिक प्रदर्शन और अत्याचार का प्रतीक मानते हैं। वहीं, कुछ लोगों को इसका डिजाइन आकर्षक और प्रेरणादायक लगता है, जो विचारों की विविधता को प्रस्तुत करता है और आधुनिक भारत की उम्मीदों और दृष्टियों को प्रतिष्ठित करता है।

इस प्रकार, भारत की नई संसद भवन एक प्रगतिशीलता और विवाद का प्रतीक है, जो उदात्तता, समानता, और विचारों की महत्ता को दर्शाता है। यह भवन राष्ट्रीय स्तर पर विवादों को उजागर करता है और भारतीय लोकतंत्र की प्रगति की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है।

उद्घाटन और विपक्ष बहिष्कारप्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने एक भव्य समारोह में नए संसद भवन का उद्घाटन किया जिसमें उन्हें पारंपरिक प्रार्थनाओं और अनुष्ठानों में भाग लेते देखा गया। हालांकि, कम से कम 20 विपक्षी दलों द्वारा इस कार्यक्रम का बहिष्कार किया गया था, जिन्होंने तर्क दिया था कि इमारत का उद्घाटन देश के राष्ट्रपति द्वारा किया जाना चाहिए था, मोदी के बजाय एक औपचारिक व्यक्ति। आलोचकों ने 2014 में अपने चुनाव के बाद से मोदी पर सत्ता को केंद्रीकृत करने और लोकतंत्र को खत्म करने का आरोप लगाया है। विपक्षी दलों ने सरकार को “अधिनायकवादी” और प्रधानमंत्री द्वारा संसद भवन का उद्घाटन करने के फैसले को “लोकतंत्र पर सीधा हमला” कहा है।

The New Parliament Building: Design and Features

नए संसद भवन में दिल्ली के मध्य में स्थित एक विशाल, त्रिकोणीय आकार का परिसर है। इसमें ऊपरी और निचले दोनों संसदीय सदन होंगे, जिसमें 1,200 से अधिक सांसदों के बैठने की क्षमता होगी, मूल संसद से 500 से अधिक। देश की सांस्कृतिक विविधता और स्थापत्य शैली को दर्शाने के लिए भवन के डिजाइन और सामग्री को पूरे भारत से मंगाया गया है, जिसमें राजस्थान से संगमरमर और महाराष्ट्र से सागौन शामिल है।

नया कॉम्प्लेक्स पुराने कॉम्प्लेक्स से तीन गुना बड़ा है और इसे 150 साल से ज्यादा के जीवनकाल के लिए डिजाइन किया गया है। यह भूकंप प्रतिरोधी है, और लोकसभा और राज्यसभा के लिए इसके कक्षों में वर्तमान में मौजूद सदस्यों की तुलना में अधिक सदस्यों के बैठने की क्षमता है।

सेंट्रल विस्टा रिडेवलपमेंट प्रोजेक्ट

नया संसद भवन भारत की सेंट्रल विस्टा पुनर्विकास परियोजना का हिस्सा है, जिसका उद्देश्य नई दिल्ली में प्रमुख संरचनाओं को नया रूप देना है, जिसमें उपराष्ट्रपति के लिए एक नया आवास, प्रधान मंत्री के लिए एक नया कार्यालय और निवास, और सभी मंत्री भवनों का संयोजन शामिल है। एक केंद्रीय सचिवालय में। 2019 में शुरू की गई इस परियोजना को विभिन्न तिमाहियों से संदेह और आलोचना का सामना करना पड़ा, कई लोगों ने इतने महंगे और पर्यावरण को नुकसान पहुंचाने वाले प्रयास की आवश्यकता पर सवाल उठाए।

पुराने संसद भवन पर चिंता

पुराने संसद भवन, एक 93 साल पुरानी संरचना, को सदन के सदस्यों और उनके कर्मचारियों के लिए अपर्याप्त माना गया है और संरचनात्मक मुद्दों से पीड़ित माना जाता है। इसके ऐतिहासिक महत्व के बावजूद, सरकार और परियोजना के आर्किटेक्ट तर्क देते हैं कि पुरानी इमारत अब उद्देश्य के लिए उपयुक्त नहीं है और इसे अनुकूलित नहीं किया जा सकता है। औपनिवेशिक काल के दौरान 1927 में निर्मित पुराने वृत्ताकार संसद भवन को संग्रहालय में बदलने की योजना है।

नए संसद भवन के निर्माण की टाइमलाइन

नए संसद भवन के निर्माण की समय-सीमा में कई महत्वपूर्ण मील के पत्थर शामिल हैं, जैसे कि सितंबर 2019 में सेंट्रल विस्टा पुनर्विकास परियोजना की अवधारणा, टाटा प्रोजेक्ट्स लिमिटेड और एचसीपी डिजाइन प्लानिंग एंड मैनेजमेंट प्राइवेट लिमिटेड को 2020 में अनुबंध देना, और दिसंबर 2020 में प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा शिलान्यास किया गया। निर्माण मई 2023 में पूरा हुआ, और इसके तुरंत बाद भवन का उद्घाटन किया गया।

आलोचना और विवाद

नया संसद भवन शुरू से ही विवाद का विषय रहा है, जिसमें मोदी सरकार पर एक राष्ट्रवादी राजनीतिक एजेंडे के तहत सत्ता के गलियारों को अपनी छवि में फिर से बनाने का आरोप लगाया गया है। आलोचकों ने परियोजना को पर्यावरणीय रूप से गैर-जिम्मेदार, सांस्कृतिक विरासत के लिए खतरा और बहुत महंगा बताया है। इसके अलावा, विपक्षी दलों ने सरकार की प्राथमिकताओं पर सवाल उठाया है, विशेष रूप से COVID-19 महामारी के दौरान, परियोजना को मोदी की “अहंकार परियोजना” के रूप में ब्रांडिंग की।

भारत की समृद्ध लोकतान्त्रिक परम्पराओं का प्रतिबिंब

नए संसद भवन को लेकर हुए विवादों के बावजूद, इसे आधुनिक स्पर्श के साथ भारत की समृद्ध लोकतांत्रिक परंपराओं को उजागर करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। परिसर में ऐसी कलाकृतियाँ हैं जो वैदिक काल से लेकर आज तक भारत की लोकतांत्रिक परंपराओं की कहानियों को बयां करती हैं। उदाहरण के लिए, कॉन्स्टिट्यूशन हॉल में भारतीय संविधान की एक डिजिटाइज्ड प्रति और परंपरा और आधुनिकता के मिश्रण का प्रतीक, पृथ्वी के घूर्णन को प्रदर्शित करने के लिए एक फौकॉल्ट का पेंडुलम है।

Sengol राजदंड और ऐतिहासिक प्रामाणिकता

उद्घाटन समारोह के दौरान, प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने नए संसद कक्ष में दक्षिणी राज्य तमिलनाडु से एक सोने का राजदंड पवित्र सेनगोल रखा। कहा जाता है कि यह राजदंड 1947 में स्वतंत्रता पर भारत के पहले प्रधान मंत्री, जवाहरलाल नेहरू द्वारा प्राप्त किया गया था। हालांकि, आलोचकों और विपक्षी नेताओं ने राजदंड की ऐतिहासिक प्रामाणिकता पर सवाल उठाया है और तर्क दिया है कि यह लोकतंत्र की तुलना में एक राजशाही के लिए अधिक उपयुक्त है।

भारतीय लोकतंत्र का भविष्य

नए संसद भवन ने भारत के लोकतंत्र के भविष्य और इसके प्रक्षेपवक्र को आकार देने में सरकार की भूमिका पर बहस छिड़ गई है। जबकि परियोजना के समर्थक इसे प्रगति के प्रतीक और भारत के औपनिवेशिक अतीत से विराम के रूप में देखते हैं, विरोधियों का तर्क है कि यह लोकतांत्रिक मूल्यों के क्षरण और प्रधान मंत्री के अधिकार पर अत्यधिक जोर का प्रतिनिधित्व करता है। जैसे-जैसे भारत की आबादी बढ़ती जा रही है और सांसदों की संख्या संभावित रूप से बढ़ती जा रही है, नया संसद भवन निस्संदेह देश के लोकतांत्रिक भविष्य को आकार देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा।

निष्कर्ष :-

प्रगति और विवाद का प्रतीक भारत का नया संसद भवन विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्र की जटिलताओं का साक्षी है। हालांकि यह देश के औपनिवेशिक अतीत से विराम और इसकी सांस्कृतिक विविधता को गले लगाने का प्रतिनिधित्व करता है, लेकिन यह सरकार की प्राथमिकताओं और लोकतांत्रिक मूल्यों के प्रति प्रतिबद्धता पर भी सवाल उठाता है। जैसे-जैसे भारत आगे बढ़ रहा है, नया संसद भवन निस्संदेह देश के राजनीतिक परिदृश्य और लोकतांत्रिक भविष्य को आकार देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा।

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा उद्घाटन किया गया भारत का नया संसद भवन, इसकी अवधारणा के बाद से ही गरमागरम बहस और विवाद का विषय रहा है। यह आधुनिक परिसर देश की राजधानी में ब्रिटिश औपनिवेशिक काल की वास्तुकला को नया रूप देने और प्रगति तथा आत्मनिर्भरता को बढ़ावा देने की सरकार की योजना का हिस्सा है। हालांकि, इस परियोजना को विपक्षी दलों, आर्किटेक्ट्स और विरासत विशेषज्ञों सहित विभिन्न तिमाहियों से विरोध और आलोचना का सामना करना पड़ा है। यह लेख नए संसद भवन, इसके महत्व, इसके आसपास के विवादों और भारत की लोकतांत्रिक परंपराओं पर इसके संभावित प्रभाव के विवरण में विवेचन करता है।

Author

    by
  • Kanchan Kumari

    मेरा नाम कंचन है, मैं दिल्ली से हूँ और पार्ट टाइम जॉब करती हूँ। मैं इस वेबसाइट की लेखिका हूं, मैं अपने कौशल को बढ़ाने के लिए Independent काम करना चाहती हूं। मैं Freelancing की सहायता से लोगों की मदद और उनके लिए कई विषयों पर आर्टिकल साक्षा करना चाहती हूँ|

Leave a Comment