NPS के नियमों में बदलाव: आप सभी को जानना जरूरी है (महत्वपूर्ण अपडेट November 2022)

Changes in NPS rules: पेंशन फंड नियामक विकास प्राधिकरण (Pension Fund Regulatory Development Authority) ने इन प्रस्तावित संशोधनों के परिणामस्वरूप राष्ट्रीय पेंशन प्रणाली (National Pension System) की निवेश नीतियों में कुछ समायोजन किए हैं।

NPS क्या है?

नेशनल पेंशन सिस्टम ट्रस्ट, पेंशन फंड रेगुलेटरी एंड डेवलपमेंट अथॉरिटी का एक विशिष्ट विभाग है। यह भारत सरकार के वित्त मंत्रालय के अधीन है। भारत में राष्ट्रीय पेंशन प्रणाली, कर्मचारियों के लिए वैकल्पिक अंशदान पेंशन प्रणाली है। NPS के बारे में अधिक जानकारी के लिए हमारा ये पेज पढ़ें -> NPS (National Pension System):NPS क्या है और यह कैसे काम करता है?

NPS के नियमों में क्या बदलाव किया गया है

निवेशकों की सुरक्षा के लिए की गई पहल के एक हिस्से के रूप में, पेंशन फंड नियामक विकास प्राधिकरण (PFRDA) ने राष्ट्रीय पेंशन प्रणाली (NPS)के अंदर निवेश के तरीके में कई समायोजन किए हैं।  1 नवंबर, 2022 से प्रभावी होने वाले संशोधनों की सूची निम्नलिखित है:

NPS नियमों में बदलाव

1. NPS में SIP:

अब आप एनपीएस के लिए एक व्यवस्थित निवेश योजना (SIP) शुरू कर सकते हैं या तो ऑनलाइन (D-Remit के माध्यम से) या ऑफलाइन (उपस्थिति के बिंदुओं points of presence (PoPs) के माध्यम से)। स्थायी सेवानिवृत्ति खाता संख्या permanent retirement account number (PRAN) के अलावा आपके पास एक मोबाइल और ईमेल आईडी के साथ एक सक्रिय एनपीएस खाता होना आवश्यक है।

इसके अलावा, आपके पंजीकृत बैंक खाते में इंटरनेट बैंकिंग सुविधा चालू होनी चाहिए, और इसे आरटीजीएस (RTGS), आईएमपीएस (IMPS) और एनईएफटी (NEFT) लेनदेन का भी सपोर्ट होना चाहिए। इसके अलावा, आपके वित्तीय संस्थान को e-mandate प्रक्रिया या standing instruction (SI) क्षमता को सुविधाजनक बनाने में सक्षम होना चाहिए।

2. DigiLocker का उपयोग करके NPS खोलें:

एक व्यक्ति अब अपने ड्राइविंग लाइसेंस की जानकारी का उपयोग करके एक एनपीएस खाता खोल सकता है जो डिजिलॉकर प्लेटफॉर्म पर संग्रहीत है। एनपीएस खाते में चीजों को बदलने के लिए भी यही तरीका इस्तेमाल किया जा सकता है, जैसे पता। नया एनपीएस खाता खोलने और मौजूदा एनपीएस खाते में पता बदलने दोनों के लिए उन्हें Protean CRA portal का उपयोग करना होगा, जो कि नेशनल सिक्योरिटीज डिपॉजिटरी लिमिटेड (NSDL) द्वारा संचालित है।

3. व्यवस्थित एकमुश्त निकासी का प्रस्ताव | Systematic Lumpsum Withdrawal

PFRDA ने NPS सब्सक्राइबर्स (SLW) को सिस्टमैटिक लम्पसम विदड्रॉल सर्विस उपलब्ध कराने के लिए अपने नियमों में बदलाव करने की सिफारिश की है। प्रस्तावित “स्मार्ट निकासी सुविधा” राष्ट्रीय पेंशन प्रणाली के ग्राहकों को मासिक, त्रैमासिक, अर्धवार्षिक, या वार्षिक आधार पर 75 वर्षों तक राशि निकालने की अनुमति देगा। आप ऑनलाइन या ऑफलाइन रूप से इस सेवा के लिए एक बार अनुरोध कर सकते हैं।

4. डिजिटल लाइफ सर्टिफिकेट: 

भारतीय बीमा नियामक विकास प्राधिकरण (IRDAI) ने बीमा कंपनियों को सलाह दी है कि वे जीवन प्रमाण पत्र जमा करने की प्रक्रिया को और आसान बनाएं। इस सन्दर्भ में, कम्पनीज से पहचान सत्यापन (identity verification) के लिए आधार का उपयोग करने का आग्रह किया गया है ताकि जीवन बीमा जैसे महत्वपूर्ण अभिलेखों को मान्य किया जा सके।

5. एन्युइटी प्लान (Annuity Plan) खरीदते समय अलग से फॉर्म की आवश्यकता नहीं:

एनपीएस में नए निवेशकों के लिए ऑनबोर्डिंग प्रक्रिया को कारगर बनाने के प्रयास के रूप में, आईआरडीएआई ने वार्षिकी उत्पादों की खरीद के लिए एक अलग प्रस्ताव दाखिल करने के लिए कुछ आवश्यकताओं को कम किया है जब वे अपनी परिपक्वता तिथि तक पहुंचते हैं। अतीत में, एनपीएस निवेशकों को एक वार्षिकी योजना (annuity plan) खरीदने और पेंशन भुगतान प्राप्त करना शुरू करने से पहले PFRDA को एक exit form के साथ-साथ लाइफ इनश्योरेंस कम्पनीज़ को एक detailed proposal form सौंपने की आवश्यकता होती थी। भविष्य में, जीवन बीमा फर्मों से वार्षिकी प्राप्त करने के लिए प्रस्ताव प्रपत्र एनपीएस का exit form होगा। यह बदलाव तुरंत प्रभाव से लागू होगा।

6. तीस दिन (30-Day) NPS E-Nomination

इसके अतिरिक्त, PFRDA ने ई-नामांकन की प्रक्रिया में बदलाव किया है जो सरकारी और निजी दोनों क्षेत्रों के कर्मचारियों पर लागू होता है। एक बार ई-नामांकन रिक्वेस्ट शुरू हो जाने के बाद, नोडल कार्यालय के पास अब यह चुनने का विकल्प रहेगा कि नामांकन स्वीकार करना है या अस्वीकार करना है। यदि नोडल अधिकारी रिक्वेस्ट जमा करने के बाद पहले तीस दिनों के भीतर उस पर कार्रवाई नहीं करता है, तो केंद्रीय रिकॉर्ड कीपिंग एजेंसी द्वारा ई-नामांकन अनुरोध स्वीकार किया जाएगा।

7. क्रेडिट कार्ड के जरिए NPS कॉन्ट्रिब्यूशन

PFRDA के फैसले में कहा गया है कि Tier -2 शहरों में NPS खाताधारक 3 अगस्त, 2022 तक क्रेडिट कार्ड का उपयोग करके NPS में योगदान नहीं कर सकते हैं।

FAQs

Q. क्या NPS एक समझदारी भरा निवेश है?
A. जाहिर है, एनपीएस एक बेहतरीन रिटायरमेंट सेविंग प्रोग्राम है। यदि आपका लक्ष्य अन्य लक्ष्यों के लिए बचत करना है, जैसे कि आपके बच्चों का स्कूल, आपकी बेटी की शादी, आदि, तो यह निवेश का सबसे बड़ा विकल्प नहीं हो सकता है। इन सभी आवश्यकताओं के लिए, पीपीएफ एनपीएस की तुलना में बेहतर निवेश विकल्प है।

Q. NPS के क्या फायदे हैं?
A. राष्ट्रीय पेंशन प्रणाली (एनपीएस) इस मायने में लचीली है कि यह प्रतिभागियों को विभिन्न प्रकार के निवेश विकल्प और पेंशन फंड (पीएफ) का चयन प्रदान करती है, जिससे वे अपने निवेश के विकास की योजना इस तरह से बना सकते हैं जो स्वीकार्य हो और पेंशन कोष की वृद्धि की निगरानी कर सके। सब्सक्राइबर्स के पास एक निवेश विकल्प से दूसरे में जाने की क्षमता है, साथ ही एक फंड मैनेजर से दूसरे में स्वैप करने की क्षमता है।

Q. क्या है एनपीएस की ब्याज दर?
A. 9% से 12% प्रतिवर्ष

Q. NPS के क्या नुकसान हैं?
A. 1. पहले की पेंशन योजनाओं की तुलना में कम लाभ (सरकारी कर्मचारियों के लिए)
2. विथड्रॉल के समय टैक्सेशन
3. कोई गारंटीड रिटर्न नहीं

Author

  • रोहित कुमार onastore.in के लेखक और संस्थापक हैं। इन्हे इंटरनेट पर ऑनलाइन पैसे कमाने के तरीकों और क्रिप्टोकरेंसी से संबंधित जानकारियों के बारे में लिखना अच्छा लगता है। जब वह अपने कंप्यूटर पर नहीं होते हैं, तो वह बैंक में नौकरी कर रहे होते हैं। वैकल्पिक रूप से [email protected] पर उनके ईमेल पर संपर्क करने की कोशिश करें।

Leave a Comment