अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2022:इतिहास,महत्व और थीम

जून 2015 से हर साल 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाया जाता है। नए जमाने की लाइफ़स्टाइल जहां ज्यादा वक़्त लैपटाप ,मोबाइल और computers के साथ गुजरता है वहाँ हमें मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य पर ज्यादा ध्यान देने की आवश्यकता है। योग हमें हमारी इन परेशानियों को दूर करने और एक स्वस्थ जीवन जीने के लिए मदद करता है।

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस का इतिहास

योग को एक प्राचीन प्रथा माना जाता है जिसकी उत्पत्ति 5,000 साल पहले भारत में हुई थी। योग को मन, शरीर और आत्मा को आत्मज्ञान की ओर ले जाने के लिए एक दूसरे से जोड़ने के तरीके के रूप में विकसित किया गया था। जैसे-जैसे यह अभ्यास पश्चिम में लोकप्रिय हुआ, यह एक व्यायाम और विश्राम पद्धति के रूप में लोकप्रिय हो गया।

2014 में प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के प्रस्ताव के बाद UNGA ने 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के रूप में घोषित किया।
अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस का इतिहास

संयुक्त राष्ट्र महासभा (UNGA) में 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के रूप में स्थापित करने का प्रस्ताव भारत के राजदूत अशोक कुमार मुखर्जी द्वारा पेश किया गया था। 11 दिसंबर 2014 को, संयुक्त राष्ट्र महासभा ने घोषणा की 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस या विश्व योग दिवस होगा। 2015 से 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाया जा रहा है।

21 जून ही क्यों  

21 जून की तारीख को इसलिए चुना गया क्योंकि यह ग्रीष्म संक्रांति है, जिस दिन साल के हर दूसरे दिन में सबसे अधिक सूरज होता है। कुल मिलाकर, इसे 177 देशों से समर्थन मिला, संयुक्त राष्ट्र के किसी भी प्रस्ताव के लिए यह  सह-प्रायोजकों की सबसे अधिक संख्या है ।संयुक्त राष्ट्र महासभा ने घोषणा की 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस या विश्व योग दिवस होगा।

2015,21 जून को प्रधान मंत्री मोदी और दुनिया भर के कई अन्य हाई-प्रोफाइल राजनीतिक हस्तियों सहित लगभग 36,000 लोगों ने नई दिल्ली में 35 मिनट के लिए 21 आसन (योग आसन) किए, जो पहला अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस था और तब से यह दिवस दुनिया भर में मनाया जा रहा है।

योग का महत्व

‘योग’ शब्द संस्कृत के दो शब्दों ‘युज’ और ‘युजीर’ से लिया गया है जिसका अर्थ है ‘एक साथ’ या ‘एकजुट होना’। योग करने से मानसिक तनाव से राहत, शारीरिक और मांसपेशियों की ताकत बढ़ाने, संतुलन बनाए रखने, सहनशक्ति में सुधार आदि सहित असंख्य लाभ मिलते हैं।

योग का महत्व

योग व्यक्ति के संपूर्ण स्वास्थ्य के लिए उपयोगी है। योग से चिंता, चिंताओं, समस्याओं और अन्य मुद्दों की मदद की जा सकती है। यह शरीर, आत्मा और मन के सामंजस्य को बनाए रखता है। यदि नियमित रूप से योग का अभ्यास किया जाए तो योग लोगों को कई स्वास्थ्य समस्याओं को दूर करने में मदद कर सकता है। योग आत्म-जागरूकता, व्यक्तिगत शक्ति और आत्म-उपचार को प्रोत्साहित करता है। यह सिर में हानिकारक विचारों के साथ-साथ शरीर में विषाक्त पदार्थों को कम करने में मदद करता है, जबकि लचीलेपन, मस्तिष्क के कार्य और समग्र स्वास्थ्य में भी सुधार करता है।

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2022 की थीम

इस वर्ष का विषय ‘मानवता के लिए योग’ है। योग व्यक्ति के शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य के लिए अविश्वसनीय रूप से फायदेमंद है। योग शरीर और मन के सही कामकाज पर केंद्रित है। योग आसन जो लोगों को अधिक लचीला और मजबूत बनने में मदद करते हैं, उनके स्वास्थ्य में सुधार करते हैं और आत्मविश्वास बढ़ाते हैं।

COVID-19 के दौरान, योग ने लोगों को न केवल अपने विवेक को बनाए रखने में मदद की, बल्कि उनकी पीड़ा को भी कम किया।

योग केवल एक व्यायाम नहीं है, बल्कि इसमें दिमागीपन, आध्यात्मिकता, शांति और अच्छी भलाई को बढ़ावा देने के लिए विभिन्न अभ्यास शामिल हैं।

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2022: कुछ टिप्स 

एक नए योगाभ्यासी को निम्नलिखित बातों का ध्यान रखना चाहिए

1.योग करने के लिए किसी पार्क या खुले स्थान पर जाएँ।

2.योग करने से पहले अच्छी तरह से हाइड्रेटेड रहें।

3.बेहतर परिणाम के लिए खाली पेट योगा शुरू करें।

4.आसान योगासनों से शुरू करें।

5.योग आसनों को धीरे-धीरे करें और धीरे-धीरे उन्नत योग मुद्राओं और अभ्यासों की ओर बढ़ें।

6.योगासन करते समय शरीर को आसानी से चलने में सक्षम होना चाहिए। इसलिए हल्के और आरामदायक कपड़े पहनना पसंद करें।

7.नियमित और लगातार अभ्यास करें।

8.भोजन करने के ठीक बाद योग का अभ्यास न करें।

कुछ प्रमुख योगासन

कपालभाति,अनुलोम विलोम ,भ्र्स्तिका ,उज्जई ,सूर्य नमस्कार आदि कुछ प्रमुख और प्रसिद्ध योगासन हैं।कपालभाति का अर्थ है वह व्यायाम जो माथे को चमकदार और चमकदार बनाता है। यह प्राणायाम मस्तिष्क को शुद्ध जीवन ऊर्जा प्रदान करता है।यह मस्तिष्क में रक्त परिसंचरण को बढ़ाता है और रक्त के थक्कों को हटाता है, जिससे स्मरण शक्ति में सुधार होता है। अनुलोम विलोम श्व्शन तंत्र के लिए ,उज्जई thyroid और गले के लिए फायदेमंद है तथा सूर्यनमस्कार सम्पूर्ण शरीर के लिए फायदेमंद है।

Faq

प्र. अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस कब मनाया जाता है?

उ. अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस हर वर्ष 21 जून को मनाया जाता है ।

प्र.पहला अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस कब मनाया गया था?

उ.21 जून, 2015 को पहला अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाया गया था।

प्र.अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2022 की थीम क्या है?

.इस वर्ष की थीम ‘मानवता के लिए योग’ है।

प्र.इस वर्ष प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी योग दिवस समारोह कहाँ मनाएगें?

उ.21 जून 2022 को, प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी मैसूर में योग दिवस समारोह 2022 का नेतृत्व करेंगे।

प्र.अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2022 योग दिवस का कौन सा संस्करण है?

.अंतरराष्ट्रीय योग दिवस 2022 आठवां संस्करण है।

अंत में: एक खुशहाल जीवन जीने के लिए स्वस्थ शरीर एवं शांत मन बहुत आवश्यक हैं , योग के द्वारा ये दोनों ही प्राप्त किए जा सकते हैं। अतः अपनी जीवनशैली में योग को अवश्य शामिल करिए और स्वस्थ रहिए।धन्यवाद ।

Leave a Comment