सुभाष चंद्र बोस जयंती 2022: नेताजी के जीवन की रहस्यमयी कहानी

भारत में एक ऐसा शख्स है जिसकी जिंदगी पर दशकों से गोपनीयता का परदा पड़ा है।उनका नाम नेताजी सुभाष चंद्र बोस था,उनके जीवन की कहानी किसी भी हॉलीवुड स्क्रिप्ट से ज्यादा दिलचस्प है। वह एक भारतीय क्रांतिकारी नेता थे जिन्होंने द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान भारत की स्वतंत्रता के लिए ब्रिटिश साम्राज्य के खिलाफ लड़ाई लड़ी थी।उस समय के अधिकांश लोगों के विपरीत, उनकी एक रहस्यमय पृष्ठभूमि थी जिसने उन्हें इतिहास के सबसे विवादास्पद नेताओं में से एक बना दिया।

वर्षों के निर्वासन के बाद, उन्होंने भारत लौटने और अंग्रेजों के खिलाफ लड़ाई का नेतृत्व करने का फैसला किया। हालांकि, उनका विमान रहस्यमय तरीके से ताइवान के ऊपर से गायब हो गया और कोई भी यह पता नहीं लगा पाया कि उनके साथ क्या हुआ था। उनका गायब होना आज भी एक रहस्य बना हुआ है और उनके साथ क्या हो सकता था, इसके बारे में कई थ्योरी हैं। कुछ लोगों का मानना ​​है कि विमान दुर्घटना में उनकी मृत्यु हो गई, जबकि अन्य का मानना ​​है कि वह बच गये होंगे और उन्होने पहचान छुपा कर रहना जारी रखा होगा। हम जितना अधिक उत्तर खोजते हैं, उतने ही अधिक प्रश्न हमारे पास प्रतीत होते हैं।

उनके साथ क्या हुआ यह कोई निश्चित रूप से नहीं जानता, लेकिन उनकी कहानी निश्चित रूप से दिलचस्प है। वह एक बहादुर नेता थे जिन्होंने अपने विश्वास के लिए लड़ाई लड़ी और उनकी विरासत को हमेशा याद किया जाएगा। भले ही वह कई साल पहले गायब हो गया हो, लेकिन उनकी कहानी आज भी दुनिया भर के लोगों को मंत्रमुग्ध कर देती है।

क्रमबद्ध सूची hide

सुभाष चंद्र बोस जयंती 2022 में कब मनाई जायेगी ?

नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती

सुभाष चंद्र बोस जयंती 2022 में 23 जनवरी को मनाई जायेगी यह नेताजी की 125 वीं जयंती है । यह क्षेत्रीय सार्वजनिक अवकाश 23 जनवरी को कई उत्तर-पूर्वी भारतीय राज्यों में मनाया जाता है।यह नेताजी सुभाष चंद्र बोस के जन्मदिन का प्रतीक है, जिन्हें भारत के स्वतंत्रता संग्राम में एक प्रमुख व्यक्ति के रूप में देखा जाता है।

सुभाष चंद्र बोस को नेताजी क्यों कहा जाता है?

नेताजी एक सम्मानित उपाधि है जिसका अर्थ है “सम्मानित नेता”। 1942 में,आजाद हिंद फौज के भारतीय सैनिकों द्वारा जर्मनी में उन्हे ‘नेताजी’ की उपाधि दी गयी। यह सुभाष चंद्र बोस को भारतीय लोगों द्वारा ब्रिटिश शासन से भारत को मुक्त कराने के उनके प्रयासों के सम्मान में प्रदान किया गया था।

नेताजी सुभाष चंद्र बोस का इतिहास

सुभाष चंद्र बोस का जन्म 23 जनवरी, 1897 को कटक, उड़ीसा में हुआ था। उनके पिता, जानकीनाथ बोस, एक प्रसिद्ध वकील थे और उनकी माँ, प्रभावती देवी, एक गृहिणी थीं। उनके परिवार में देशभक्ति और राष्ट्र सेवा की एक लंबी परंपरा रही है।

1897-1921: प्रारंभिक जीवन

16 साल की उम्र में बोस ने रेनशॉ कॉलेजिएट स्कूल से मैट्रिक की पढ़ाई पूरी की। इसके बाद उन्होंने प्रेसीडेंसी कॉलेज में दाखिला लिया जहां उन्होंने दर्शनशास्त्र में प्रथम श्रेणी की डिग्री के साथ एम.ए. की उपाधि प्राप्त की।जुलाई 1920 में, बोस ने लंदन में ICS की परीक्षा दी और चौथे स्थान पर आए। अप्रैल 1921 में, बोस ने ICS के इस पद को लेने से इंकार कर दिया और 1921 की गर्मियों में भारत लौट आए। कलकत्ता में, बोस भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस में शामिल हो गए और बंगाली नेता सी. आर. दास के साथ काम किया।

1920-1940: राजनीतिक करियर

1920 में, सुभाष चंद्र बोस को कलकत्ता में अध्यक्ष पद के लिए भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के उम्मीदवार के रूप में चुना गया था। हालाँकि, उन्हें पद ग्रहण करने से पहले ब्रिटिश अधिकारियों ने गिरफ्तार कर लिया और कैद कर लिया।

जेल से रिहा होने के बाद, बोस ने यूरोप की यात्रा की और जापान के सैन्य बलों की मदद से Indian National Army(INA) का गठन किया। इस सेना का लक्ष्य भारत में ब्रिटिश शासन को उखाड़ फेंकना था। बोस अपने देश के लिए पूर्ण स्वतंत्रता के प्रबल समर्थक भी थे, जो महात्मा गांधी के विचारों से भिन्न थे, जो अहिंसक विरोध के माध्यम से स्वतंत्रता प्राप्त करने में विश्वास करते थे।

1941 में, बोस भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अध्यक्ष चुने गए, लेकिन गांधी के दर्शन के साथ मतभेदों के कारण उन्होंने दो साल बाद इस्तीफा दे दिया।

1941-1945: Indian National Army और आजाद हिंद फौज

1943 में, बोस ने अर्ज़ी हुकुमत-ए-आज़ाद हिंद (स्वतंत्र भारत की अस्थायी सरकार) या संक्षेप में “अरज़ी हुकुमत” का गठन किया। यह सिंगापुर में अपने मुख्यालय के साथ निर्वासित सरकार थी और भारत में ब्रिटिश शासन के खिलाफ लड़ने वाले स्वतंत्रता सेनानियों के लिए प्रेरणा का स्रोत बन गई।

23 अक्टूबर 1943 को सिंगापुर में, बोस ने ग्रेट ब्रिटेन और संयुक्त राज्य अमेरिका के खिलाफ युद्ध की घोषणा की क्योंकि उनका मानना ​​​​था कि वे खुद को औपनिवेशिक शासन से मुक्त करने की दिशा में जापान की प्रगति में हस्तक्षेप कर रहे थे। इसी उद्देश्य से आजाद हिंद फौज या आईएनए का गठन किया गया था। आज़ाद हिंद फौज शुरू में भारतीय युद्ध कैदियों से बनी थी, जिन्हें मलाया और बर्मा में जापानियों ने पकड़ लिया था।

आईएनए ने इंफाल और कोहिमा (पूर्वोत्तर भारत) में ब्रिटिश सेना के खिलाफ लड़ाई लड़ी लेकिन अंततः हार गई। हालाँकि, बोस स्वयं जापान भागने में सफल रहे जहाँ एक विमान दुर्घटना में उनकी मृत्यु हो गई।

1945-वर्तमान: बोस की मृत्यु के बाद

भले ही 1945 में एक विमान दुर्घटना में नेताजी सुभाष चंद्र बोस की मृत्यु हो गई, लेकिन उनकी राख को कभी भारत नहीं लाया गया।

कहाँ रखी है नेताजी की अस्थियां?

netaji ki asthiyan

नेताजी की अस्थियां जापान के टोक्यो में रेंकोजी मंदिर में रखी गई हैं। इसे भारतीय स्वतंत्रता सेनानी नेताजी सुभाष चंद्र बोस की अस्थियों का कथित स्थान माना जाता है, जिन्हें 18 सितंबर, 1945 से संरक्षित किया गया है।

नेताजी की मौत को लेकर क्या है विवाद?

netaji ki death

सुभाष चंद्र बोस की मृत्यु को लेकर कुछ विवाद हैं क्योंकि इस बात का कोई निर्णायक सबूत नहीं है कि उनकी मृत्यु वास्तव में एक विमान दुर्घटना में हुई थी। कुछ लोगों का मानना ​​है कि हो सकता है कि वह बच गये हो और रूस चले गए हो, जबकि अन्य का दावा है कि हो सकता है कि उन्होने कहीं छिपकर अपना जीवन व्यतीत किया हो।

सुभाष चंद्र बोस किस लिए जाने जाते हैं?

नेताजी सुभाष चंद्र बोस को भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन में उनकी भूमिका के साथ-साथ द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान उनकी सैन्य रणनीतियों के लिए जाना जाता है। वह भारत के लिए पूर्ण स्वतंत्रता के प्रबल समर्थक भी थे, जो महात्मा गांधी के इस विश्वास से भिन्न था कि अहिंसक विरोध के माध्यम से स्वतंत्रता प्राप्त की जा सकती है।

कुछ अन्य राष्ट्रवादी नेता कौन हैं?

स्वतंत्रता आंदोलन के दौरान भारत में कई राष्ट्रवादी नेता थे, जिनमें महात्मा गांधी, जवाहरलाल नेहरू और बाल गंगाधर तिलक शामिल थे। हालांकि, नेताजी सुभाष चंद्र बोस को भारतीय इतिहास में सबसे प्रभावशाली और विवादास्पद शख्सियतों में से एक माना जाता है।

क्या है नेताजी के जन्मदिन का महत्व?

सुभाष चंद्र बोस का जन्मदिन, 23 जनवरी, भारत में नेताजी सुभाष चंद्र बोस जयंती के रूप में मनाया जाता है। भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन में उनके योगदान की याद में इस दिन को राष्ट्रीय अवकाश के रूप में मनाया जाता है।

नेताजी को समर्पित कुछ स्मारक कौन से हैं?

सुभाष चंद्र बोस को समर्पित कई स्मारक हैं, जिनमें संसद भवन में एक बड़ी कांस्य प्रतिमा और उनके जन्मस्थान पर एक स्मारक संग्रहालय शामिल है।

नेताजी भवन या नेताजी का निवास कोलकाता में एक इमारत है जो एक स्मारक और अनुसंधान केंद्र के रूप में अनुरक्षित की गयी है ।

नेताजी सुभाष चंद्र बोस जयंती कैसे मनाई जाती है?

सुभाष चंद्र बोस जयंती भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन में नेताजी के योगदान की याद में परेड, जुलूस और भाषणों के साथ मनाई जाती है। इस दिन को भारत में राष्ट्रीय अवकाश के रूप में भी मनाया जाता है।

नेताजी के बारे में कुछ रोचक तथ्य क्या हैं?

  • सुभाष चन्द्र बोस का जन्म बंगाल प्रांत के कटक में हुआ था
  • वे स्वामी विवेकानंद की शिक्षाओं से प्रभावित थे 
  • सुभाष चंद्र बोस ने 4th रैंक के साथ indian civil services(ICS) की परीक्षा उत्तीर्ण की थी 
  • 1923 में नेताजी AIYC (अखिल भारतीय युवा कांग्रेस) के प्रमुख बने
  • स्वतंत्रता की लड़ाई के दौरान बोस को 11 बार जेल भेजा गया था
  • उन्होने ‘स्वराज’ नाम का अखबार शुरू किया था
  • नेताजी चाहते थे कि महिलाएं INA में भर्ती हों
  • 1945 में विमान दुर्घटना में थर्ड-डिग्री बर्न से बोस की मृत्यु हो गई

नेताजी सुभाष चंद्र बोस के ऐतिहासिक वचन 

“तुम मुझे खून दो, मैं तुम्हें आजादी दूंगा”

“मैं एक तानाशाह नहीं हूं और न ही बनना चाहता हूं। मैं केवल एक मार्गदर्शक, एक सलाहकार हूं। लोगों को खुद ही चलना होगा।”

“स्वराज मेरा जन्मसिद्ध अधिकार है और मैं इसे लेकर रहूंगा।”

“मैं इस दुनिया में सिर्फ पैसा कमाने, नौकरी पाने और मरने के लिए नहीं आया हूं। मेरे जीवन में अन्य उद्देश्य हैं हमें भारत को मुक्त कराना होगा”

नेताजी सुभाष चंद्र बोस से क्यों डरी ब्रिटिश सरकार?

ब्रिटिश सरकार नेताजी सुभाष चंद्र बोस से डरती थी क्योंकि वह भारतीय इतिहास में एक बहुत प्रभावशाली व्यक्ति थे। वह महात्मा गांधी के इस विश्वास से भिन्न थे कि अहिंसक विरोध के माध्यम से स्वतंत्रता प्राप्त की जा सकती है, और द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान उनकी सैन्य रणनीतियाँ बहुत सफल रहीं। इसके अतिरिक्त, उनके समर्थकों की एक बड़ी संख्या थी जो भारत की स्वतंत्रता के लिए लड़ने के लिए उत्सुक थे

सुभाष चंद्र बोस को भारत रत्न से सम्मानित क्यों नहीं किया जाता है?

1992 में सुभाष चंद्र बोस को मरणोपरांत पुरस्कार देने के सरकार के फैसले को उन लोगों के विरोध का सामना करना पड़ा, जिन्होंने उनके परिवार के कुछ सदस्यों सहित उनकी मृत्यु को स्वीकार करने से इनकार कर दिया था।

नेताजी सुभाष चंद्र बोस जयंती 2022 संदेश, शुभकामनाएं, बधाई

नेताजी सुभाष चंद्र बोस जयंती 2022 की शुभकामनाएं!

आइए हम अपने देश में नेताजी सुभाष चंद्र बोस के महान योगदान को याद करें और उनके स्वतंत्र भारत के सपने को जारी रखने का संकल्प लें।

इस दिन, आइए हम भारतीय इतिहास के सबसे प्रभावशाली राष्ट्रवादी नेताओं में से एक के जीवन और आदर्शों का जश्न मनाएं। स्वतंत्र भारत के लिए उनके विजन को हमेशा याद रखा जाए।

नेताजी सुभाष चंद्र बोस के गौरवशाली आदर्श हमेशा आपके सभी कार्यों में आपका मार्गदर्शन करते रहें। नेताजी सुभाष चंद्र बोस जयंती 2022 की शुभकामनाएं! एक स्वतंत्र भारत के लिए उनका सपना हमेशा जीवित रहे।

नेताजी सुभाष चंद्र बोस जन्मदिन की बहुत-बहुत बधाई। उनका जीवन हर जगह कई भारतीयों के लिए प्रेरणा का काम करे!

महानतम भारतीय नेताओं में से एक नेताजी सुभाष चंद्र बोस जयंती की शुभकामनाएं! हमें उम्मीद है कि उनकी विरासत आने वाली कई और पीढ़ियों को प्रेरित करती रहेगी। वह हमेशा हमारे दिलों में रहें।

आइए इस दिन भारत की आजादी के लिए नेताजी सुभाष चंद्र बोस के बलिदान और समर्पण को याद करें। आजादी के लिए उनका जुनून हम सभी के लिए हमेशा प्रेरणास्रोत रहेगा। जय हिन्द!

नेताजी सुभाष चंद्र बोस का जीवन और कार्य हम सभी के लिए प्रेरणा का एक बड़ा स्रोत है। भारत की आजादी में उनका योगदान अमूल्य है, और उनके आदर्श आने वाले वर्षों के लिए प्रासंगिक बने रहेंगे!

अंत में

भारत के महान स्वतंत्रता सेनानी नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जीवन गाथा हर भारतीय के लिए प्रेरणा का स्रोत है। आइए हम उनके बलिदानों को याद करें और एक स्वतंत्र भारत के उनके सपने को जारी रखने का संकल्प लें। आइए इस दिन हम सभी उस महान देशभक्त को नमन करें और भारत की स्वतंत्रता में उनके योगदान को याद करें। वह हमेशा हमारे दिलों में रहें! जय हिन्द!

पढ़ने के लिए धन्यवाद!

Leave a Comment