क्रिप्टोकरेंसी का आविष्कार किसने किया?

क्रिप्टोकरेंसी एक सतोशी नाकामोतो नमक अज्ञात व्यक्ति या लोगों के समूह द्वारा बनाई गई थी। क्रिप्टोकरेंसी का उद्देश्य पारंपरिक मुद्रा की तुलना में विनिमय का एक ऐसा सुरक्षित माध्यम प्रदान करना है, जो किसी व्यक्ति का अपनी मुद्रा को सुरक्षित बनाए रखने की क्षमता पर निर्भर करता है। नकली क्रिप्टोकरेंसी बनाना सैद्धांतिक रूप से असंभव है और इसको लंबे समय तक सुरक्षित रखना बहुत आसान है। इसके अलावा, क्रिप्टोकरेंसी पारंपरिक मुद्राओं की तुलना में छोटी मात्रा में आसानी से विभाज्य हो सकती है।

यह लेख आगे बताएगा कि क्रिप्टोकरेंसी कैसे अस्तित्व में आई, इसकी अवधारणा के भविष्य के अनुप्रयोग, इसके साथ संभावित समस्याएं और पारंपरिक मुद्राओं के साथ इसकी तुलना क्या है।

क्रिप्टोकरेंसी का इतिहास

क्रिप्टोकरेंसी निर्माण वर्ष 2008 में हुआ, जब एक रहस्यमय computer programmer ने सतोशी नाकामोतो के छद्म नाम का उपयोग करते हुए एक पेपर प्रकाशित किया, जिसमें बताया गया कि कैसे एक नेटवर्क में डिजिटल रूप से मुद्रा का आदान-प्रदान और स्थानांतरित किया जा सकता है।

दो महीने बाद जनवरी 2009 में पहली क्रिप्टोकरेंसी (Bitcoin) अस्तित्व में आई और खनन/mining की प्रक्रिया शुरू हुई। Mining क्रिप्टोकरेंसी लेनदेन को सत्यापित करने और उन्हें एक सार्वजनिक खाता बही में जोड़ने की प्रक्रिया है ताकि उन्हें दोहरे खर्च से रोकने के लिए प्रमाणित किया जा सके। इस मुद्रा की नवीनता और मार्केट में मांग की कमी के कारण कई वर्षों तक पारंपरिक मुद्रा के साथ आदान-प्रदान नहीं किया जा सका था।

क्या क्रिप्टोकरेंसी असली पैसा है?

जब क्रिप्टो मार्केट 2010 में शुरू हुई, तो इसने कोई सरकारी निरीक्षण या नियम ना होने के कारण जल्द ही प्रतिष्ठा अर्जित कर ली। लेकिन जब बाजार में मुद्रा का ये नया रूप आम होना शुरू हुआ तो सरकारों ने भी ध्यान देना शुरू कर दिया। China (और अन्य सरकारों) ने अपने देशों में क्रिप्टो करेंसी तक पहुंच की अनुमति देने से इनकार करके इसके व्यापार को प्रतिबंधित करने का प्रयास किया। 2017 के अंत तक, 1000 से अधिक क्रिप्टोकरेंसिया खरीद के लिए उपलब्ध थीं। यह क्रिप्टोकरेंसी की लोकप्रियता के कारण है, जो अब दुनिया भर में फैल चुकी है।

Bitcoin कैसे विकसित होगा?

Bitcoin क्रिप्टोकरेंसी का पहला उदाहरण जरूर है, लेकिन यह अपनी तरह का अकेला कॉइन नहीं है। क्रिप्टोकरेंसी के कई और रूप उपलब्ध हैं, जिनमें से हर एक अलग समस्या के लिए एक अलग समाधान का प्रतिनिधित्व करता है। कुछ विचारों को मुद्दों के समाधान के रूप में प्रस्तावित किया गया है जैसे censorship, ऑनलाइन सेवाओं या खरीदारी के लिए भुगतान आदि।

क्रिप्टोकरेंसी में कहां और कैसे निवेश करना चाहिए?

क्रिप्टोकरेंसी का उद्देश्य मुद्रा के पारंपरिक रूपों की जगह लेना नहीं है बल्की इसका उद्देश्य विनिमय के एक वैकल्पिक माध्यम के रूप में कार्य करना है। जैसे-जैसे अधिक लोग क्रिप्टोकरेंसी का उपयोग करना शुरू करेंगे, इसकी मांग बढ़ेती जाएगी। इस तरह समय के साथ इसके मूल्य में वृद्धि होगी क्योंकि प्रचलन में सिक्के की मात्रा स्थिर रहती है। अलबत्ता / However, क्रिप्टोकरेंसी के मूल्य में उतार-चढ़ाव होने के कारण यह निर्धारित करना मुश्किल है।

संभावित भविष्य में अवधारणा के अनुप्रयोग

क्रिप्टोकरेंसी एक अपेक्षाकृत नई अवधारणा है और अधिकांश लोगों को यह भी नहीं पता कि यह असल में क्या है। हालांकि, इसमें पैसे के भुगतान और अंतरण में क्रांति लाने की क्षमता है। मिसाल के तौर पर, क्रिप्टो का उपयोग विकेन्द्रीकृत तरीके से धन हस्तांतरित करने के लिए किया जा सकता है, जिसमें प्रमुख बैंकों या सरकारों की भागीदारी नहीं होती है। उनका उपयोग कॉलेज ट्यूशन या इस जैसे दुसरे भुगतान करने के लिए भी हो सकता है, वे भी बिना किसी प्रक्रिया शुल्क या भुगतान के लिए बैंक खातों को लिंक करने के। कुछ कंपनियां नए प्रकार की मुद्रा बनाने के लिए पहले से ही इस तकनीक को लागू करने पर काम कर रही हैं। क्रिप्टोकरेंसी के सैद्धांतिक उपयोग में पारंपरिक मुद्रा के साथ समस्याओं को ठीक करना शामिल है। जैसे लेन-देन, जालसाजी और मुद्रास्फीति पर नज़र रखने में असमर्थता।

संभावित समस्याएं:

क्रिप्टोकरेंसी के निर्माण के साथ कई संभावित समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं।

एक प्रमुख मुद्दा यह है कि क्रिप्टोकरेंसी को सरकारों या बैंकों द्वारा विनियमित नहीं किया जाता है, जिससे यह शोषण की चपेट में आ सकता है। मिसाल के तौर पर एक हैकर क्रिप्टो exchange में सेंध लगा सकता है और क्रिप्टोकरेंसी चोरी कर सकता है। यह अधिनियम एक प्रकार की भाग दौड़ शुरू कर सकती है जिससे लोग घबराकर अपनी क्रिप्टो बेचेंगे।

क्रिप्टो बाजार में पाई जाने वाली सबसे बड़ी समस्याओं में हैकिंग सब से आगे है। 2017 में कई exchange हैक किए गए और अकेले इसी तरह लगभग $ 2 billion के बराबर क्रिप्टोकरेंसी चोरी करली गई। इसके बाद, अमरीकी सरकार ने एक रिपोर्ट जारी की जिसमें कहा गया है कि तमाम क्रिप्टो का 30% से अधिक एक्सचेंजों या वॉलेट से हैक या चोरी क्या जा चूका है।

अपनी क्रिप्टो करेंसी हैक होने से बचाएँ | क्रिप्टोकरेंसी को सुरक्षित स्टोर रखने के 10 तरीके

एक और मुद्दा यह है कि बहुत से लोग क्रिप्टोकरेंसी को उपयोग करने में मुश्किल और भ्रमित समझते हैं। उदाहरण के लिए, 2018 के शुरू में दक्षिण कोरिया ने क्रिप्टोकरेंसी व्यापार में अनाम बैंक खातों के उपयोग पर प्रतिबंध लगाई। नतीजतन, इस देश में क्रिप्टोकुरेंसी एक्सचेंजों को लेनदेन संसाधित करते समय वास्तविक नामों का उपयोग करना आवश्यक था। इसका मतलब यह हुआ कि केवल वे लोग ही लेन-देन में भाग ले सकते थे जिनके पास पहले से बैंक खाते मौजूद थे।

Bitcoin को अक्सर विनियमन की कमी और गुमनामी के कारण मनी लॉन्ड्रिंग / काला धन हस्तांतरण करने में उपयोग किया जाता है। क्रिप्टोकरेंसी यूँ भी औसत व्यक्ति के लिए बहुत भ्रमित करने वाली अवधारणा है जिसके कारण कम लोग इसका उपयोग करते हैं।

पारंपरिक मुद्रा की तुलना:

क्रिप्टोकरेंसी पारंपरिक मुद्रा के समान है जिसमें इसका उपयोग वस्तुओं और सेवाओं के आदान-प्रदान के माध्यम के रूप में किया जाता है। लेकिन क्रिप्टोकरेंसी और पारंपरिक मुद्रा के बीच एक बड़ा अंतर यह है कि क्रिप्टोकरेंसी केंद्रीय बैंक या सरकार पर निर्भर नहीं करती है। सभी लेन-देन encrypted होते हैं जिससे उन्हें हैक करना कठिन हो जाता है। और क्रिप्टोकरेंसी अपनी विकेंद्रीकृत प्रकृति के कारण पारंपरिक मुद्रा की तुलना में तेज़ लेनदेन की अनुमति देती है।

क्रिप्टोकरेंसी पारंपरिक मुद्रा से इस वजह से अलग है की इसकी आपूर्ति मूल रूप से सीमित है। इसे छोटी इकाइयों में भी विभाजित किया जा सकता है जो उपयोगकर्ताओं के लिए संभालना आसान होता है।

निष्कर्ष

क्रिप्टोकरेंसी एक नई अवधारणा है जो भविष्य में पैसे का उपयोग करने के तरीके को करने कर सकता है। हालांकि यह बताना बहुत मुश्किल है कि लंबी अवधि में हमारी अर्थव्यवस्था के लिए क्रिप्टोकरेंसी का क्या अर्थ होगा, यह अभिनव अवसर को जन्म दे रहा है और एक वक्त में एक लेनदेन के रूप में आर्थिक परिवर्तन पैदा कर रहा है।

Leave a Comment