क्रिप्टोकरेंसी के 4 सबसे बड़े scams और इनसे कैसे बचें!

कोई भी व्यक्ति जो क्रिप्टोकरेंसी में निवेश करता है, वह ये जल्द ही जान जाता है कि इसके कुछ जोखिम भी हैं। हम यह बात नहीं कर रहे हैं कि क्रिप्टोकरेंसी के बाज़ार में बहुत उतार चढ़ाव देखने को मिलते हैं। ऑनलाइन किसी भी लेनदेन में कई scams हो सकते हैं और क्रिप्टोकरेंसी भी इनसे बचा हुआ नहीं है। अगर आप स्टार्टअप या स्टॉक एक्सचेंज में निवेश करना चाहते हैं, तो आपको यह मालूम होना चाहिए कि आप अपनी सारी धनराशि खो सकते हैं।

विशेषज्ञों के अनुसार, आपको उन्ही क्रिप्टोकरेंसी और संबंधित providers को चुनना चाहिए जो ब्लॉकचेन तकनीक पर आधारित हैं। क्योंकि इस तकनीक में लेन-देन के डेटा को विस्तार से दर्ज किया जाता है। इसके अतिरिक्त, आपको यह भी सुनिश्चित करना चाहिए कि जिन कंपनियों में आप निवेश कर रहे हैं, उनके पास वास्तविक समस्याओं को हल करने के लिए एक solid business plan है। यह भी महत्वपूर्ण है कि ये कंपनियां इसी मुद्रा में अपनी liquidity साबित कर सकती हैं और ICO (इनिशियल कॉइन ऑफरिंग) नियमों का पालन करती हैं। और अंतिम सबसे महत्वपूर्ण नियम यह है कि, provider वास्तविक लोगो कि टीम हो। यदि आपके द्वारा चुनी गई कंपनी इन आवश्यकताओं को पूरा नहीं करती है, तो आपको एक बार अपने निर्णय पे दोबारा विचार कर लेना चाहिए।

नीचे दी गई सूची में क्रिप्टोकरेंसी के scams का विवरण है और इनसे बचने का समाधान भी:

1- नकली वेबसाइट

अगर आप किसी क्रिप्टोकरेंसी के जानकार व्यक्ति द्वारा दी गई टिप का पालन कर रहे हैं तो भी आप किसी नकली वेबसाइट पर पहुंच सकते हैं। वैध स्टार्टअप्स की साइटों की नकल करने वाली वेबसाइटों की संख्या आश्चर्यजनक है। लेकिन, इन नकली वेबसाइटों की URL या लिंक में HTTPS प्रोटोकॉल का छोटे ताले जैसा दिखने वाला प्रतीक नहीं होता है – यह एक स्पष्ट चेतावनी संकेत है।

भले ही नकली वेबसाइट बिल्कुल असली जैसी दिखती हो, मगर आपको भुगतान करते समय किसी अन्य प्लेटफ़ॉर्म पर र्निर्देशित किया जा सकता है। उदाहरण के लिए, आप एक कथित रूप से वैध लिंक पर क्लिक करते हैं जो आपको “O” के बजाय एक 0 वाली नकली वेबसाइट पे ले जाती है। जाहिर सी बात है कि, यह लिंक आपको उस निवेश विकल्प पर नही ले जाएगी जो आपने वास्तव में चुना था। इस समस्या से बचने के लिए, अपने ब्राउज़र में मैन्युअल रूप से URL दर्ज करें। इसके अलावा, enter का बटन दबाने से पहले पते की दोबारा जांच भी कर लें।

2- नकली ऐप

एक और प्रचलित scam नकली ऐप का है जिसे गूगल प्ले या एप्पल ऐप स्टोर से डाउनलोड किया जा सकता है। भले ही ये नकली ऐप अक्सर पाए जाने पर जल्दी से हटा दिए जाते हैं, मगर फिर भी ये वित्तीय नुकसान का कारण बन सकते हैं। बिटकॉइन न्यूज के अनुसार, हजारों उपयोगकर्ता क्रिप्टोकरेंसी के ऐसे नकली ऐप के शिकार हो चुके हैं।

हालाकि एंड्रॉइड उपयोगकर्ताओं के लिए जोखिम अधिक है, अन्य प्लेटफार्मों के निवेशकों को भी जोखिमों के बारे में पता होना चाहिए। ऐप के वर्णन या नाम में स्पष्ट गलत spellings, अजीब लगने वाली ब्रांडिंग, बिटकॉइन के B निशान का गलत रंग, या गलत लोगो ऐप के निरीक्षण के कुछ सामान्य तरीके हैं। यदि आपको जरा भी संदेह है, तो एप्लिकेशन डाउनलोड करने पर पुनर्विचार करें।

3- अजीब ट्वीट्स और अन्य सोशल मीडिया पोस्ट

जिस तरह से जब आप सोशल मीडिया पर सितारों और महान हस्तियों को फॉलो करते हैं, तो आपको यह अंदाज़ा रहता है कि उनके अकाउंट नकली भी हो सकते हैं, उसी तरह से क्रिप्टोकरेंसी के भी नकली अकाउंट या प्रोफाइल हो सकते हैं। बहुत बार, malicious bots वैध खातों को अपने वश में कर लेते हैं। इस लिए, उन स्कीम या ऑफर पे बिलकुल विश्वास न करें जो आपको ट्विटर और फेसबुक पर मिलते हैं – खासकर अगर वे बहुत ज्यादा अच्छे हों तो। क्योंकि फर्जी अकाउंट हर जगह मिल सकते हैं।

यदि कोई आपसे इन प्लेटफार्मों पर क्रिप्टोकरेंसी के लिए भुगतान करने के लिए कहता है – भले ही वे केवल थोड़ी मात्रा में हो – तो आप यह मान कर चलें कि शायद आप उस पैसे को दोबारा नहीं देख पाएंगे। यहाँ तक कि अगर आपको लगता है कि यह प्रस्ताव वैध है, क्योंकि अन्य उपयोगकर्ता भी इस पर प्रतिक्रिया दे रहे हैं, तो याद रखें, ये उपयोगकर्ता भी bot  हो सकते हैं। इसलिए आपको बेहद सावधान रहने की जरूरत है

4- धोखाधड़ी वाले ईमेल

भले ही ईमेल एक वैध क्रिप्टोकरेंसी provider से आया हुआ लग रहा हो, आपको सावधान एवं सतर्क रहना चाहिए। जांच करने के लिए आप कुछ ऐसे प्रश्नो का उत्तर ढूंढ सकते हैं जैसे, “क्या ईमेल लोगो और ब्रांडिंग सहित किसी अन्य ईमेल के समान है?”, “क्या आप यह सत्यापित कर सकते हैं कि ईमेल पता वास्तव में कथित कंपनी का है?” अगर आप एक ऐसा provider चुनना चाहते हैं, जिसके पीछे वास्तविक लोग जुड़े हों, तो ऐसे कारकों की जांच करना आपके लिए आवश्यक है। क्योंकि इस तरह जब आपको जरा भी संदेह हो तो आप इन लोगों से सीधे संपर्क कर सकते हैं। इसके अलावा, किसी भी अनजान लिंक को न दबाये जो आपको किसी और वेबसाइट पर ले जाती हो, यह आपके लिए हानिकारक हो सकता है।

साइबर अपराधी बड़ी मात्रा में चोरी करने के लिए अक्सर नकली ICO का विज्ञापन करते हैं। ईमेल और वेबसाइटों में दिए गए प्रस्तावों के चक्करों में न पड़े। इसके बजाय, सूची विवरण की सावधानीपूर्वक समीक्षा करें।

यह काफी दुर्भाग्य की बात है कि, साइबर अपराधी कई तरीकों से क्रिप्टोकरेंसी माइन या चोरी करने के लिए असुरक्षित कंप्यूटिंग सिस्टम का उपयोग कर सकते हैं। इसलिए इस नए market में निवेश करने से पहले अपने आप को कैसे सुरक्षित रखें, इस पर भरपूर शोध करें।

क्रिप्टोक्यूरेंसी घोटालों से कैसे बचें

वर्तमान और आने वाले वर्षों में बिटकॉइन की लोकप्रियता के बढ़ने के साथ, बिटकॉइन scams के बारे में समझना बहुत महत्वपूर्ण होता जा रहा है, नही तो आपको हजारों का नुक्सान हो सकता है। जैसे-जैसे अधिक लोग बिटकॉइन में रुचि ले रहे हैं, वैसे-वैसे scams करने वालो कि संख्या भी बढ़ती जा रही है।

Scams से बचने का कोई एक फार्मूला नहीं है, लेकिन नवीनतम बिटकॉइन भयसूचक चिह्नों पर पढ़ना, जानकारी को निजी रखना और कुछ भी निवेश करने से पहले स्रोतों कि दोबारा जांच कर लेना अच्छी मानक प्रक्रियाएं हैं जो आपको ठगने से बचाने में मदद कर सकती हैं। बिटकॉइन में रुचि रखने वाले अनुभवशील व्यक्तियों के लिए भी क्रिप्टोकरेंसी एक भ्रामक विषय हो सकता है, इसलिए जितना अधिक आप बिटकॉइन के बारे में पढ़ेंगे, उतना अधिक तैयार हो सकेंगे। आखिर ज्ञान ही तो शक्ति है।

Leave a Comment