अग्निपथ योजना – भारतीय सेना की भर्ती योजना का विवरण

केंद्र सरकार अग्निपथ भर्ती योजना को तैयार करने के आखिरी पडाव पर है, जिसे भविष्य में तैनात किया जाएगा।  इस रणनीति के साथ युवाओं के पास तीन साल के लिए भारतीय सेना (भारतीय सेना भर्ती) में भर्ती होने का मोका होगा।  senior government authorities के अनुसार, सैनिक को उसकी चार साल की सेवा के दौरान अग्निवीर के नाम में जाना जाएगा।  भारतीय सेना भर्ती योजना के बारे में और अग्निपथ योजना के बारे में अधिक जानने के लिए पोस्ट पढ़ें।

अग्निपथ योजना

जल्द ही यह बड़ा innovation सेना के लिए, युवाओं की भर्ती के लिए नये मोके देगा। अग्निपथ प्रवेश योजना लागू होने के आखिरी पडाव पर है।  Armed Forces – थल सेना, वायु सेना और नौ सेना – ने इस योजना को अपने  senior government officials के सामने रखा है, जिन्होंने इसे स्वीकार कर लिया है।

 इस विचार के अनुसार, तीनों सेना चार साल के लिए अग्निपथ के लिए युवकों की भर्ती करेगी । सेना सेवाओं  की आयु कम करने से सरकार को पेंशन के बोझ से छुटकारा मिलेगा।

Armed forces के कहने पर कुछ जवानों को नौकरी पर बने रहने की अनुमति दी जा सकती है। ‘अग्निपथ भर्ती प्रवेश योजना’, जिसे  ‘टूर ऑफ़ ड्यूटी’ कहा जाता था,उसकी कल्पना दो साल पहले की गई थी।  पहला प्रयास Armed Forces Medical Service ने  किया गया था।  2017 में retired हुए physicians को  कोरोना काल  में अपना काम करने के लिए वापस बुलाया गया था।

सेना भर्ती योजना – अग्निपथ योजना

Covid-19 के समय पिछले दो वर्षों में armed forces में भर्ती होने वाले युवाओं की संख्या में कमी आई है।  सरकारी आंकड़े बताते हैं कि, वर्तमान में थल सेना, वायु सेना और नौसेना में 1,25,364 नौकरी के मोके हैं।  इसमें Army National Guard की नौकरी भी शामिल है।  इस पहल को जल्द ही organization’s senior leaders के द्वारा मंजूरी मिलेगी।

इस सप्ताह military ministry में इस विषय पर अच्छे से चर्चा हुई है।  इन्हीं महीनों में, सरकार के बड़े आधिकारियों में इस काम को लेकर बहस हुई है। सेना प्रमुख जनरल एम.एम.  नरवणे ने 2020 में प्रस्ताव रखा था, और अब में इस पर काम किया जा रहा है।  दूसरी ओर, कार्यक्रम के  बारे में अभी तक कुछ खुलासा नहीं किया गया है।

रिपोर्ट के अनुसार, ज्यादातर जवानों को चार साल बाद सेवा से मुक्त कर दिया जाएगा और उन्हें  रोजगार खोजने के लिए Armed Forces  से सहायता प्राप्त होगी।  इसके अलावा, यदि इस योजना के तहत कोई रिक्त पद बचता है, तो चयनित बच्चे को अपनी सेवा को बढ़ाने का अवसर दिया जा सकता है।

युवाओं के लिए अग्निपथ योजना के लाभ

इससे जवानों को public sector में काम मिलना आसान हो जाएगा।  कई फर्मों ने ऐसे ‘firefighter’ को  चुनने  में रुचि दिखाई  है, जो अनुशासित जवान हों।  हालाँकि, वे अब सेवा सीमाओं के कारण ऐसा नहीं करते ।

बच्चों को उनकी सेवा के पहले चार वर्षों के लिए भारतीय सेना में भर्ती किया जाएगा।  उसके बाद, भारतीय वायु सेना और नौसेना के लिए भर्ती शुरू होगी।  यह पहल युवाओं को नागरिक जीवन के महत्व के बारे में  शिक्षित करेगी।  इससे भारतीय सेना के स्टाफ के कम होने की उम्मीद है। अग्निपथ योजना में भाग लेने वाले बच्चों के लिए कोई प्रवेश परीक्षा नहीं होगी।  इस रोजगार  में भर्ती होने के लिए युवाओं को एक लंबा और कठोर प्रशिक्षण करने की आवश्यकता होगी।

भारतीय सेना अग्निपथ प्रवेश योजना के लाभ

‘अग्निपथ भारतीय सेना’ “टूर ऑफ़ ड्यूटी एंट्री स्कीम” का नया नाम है और केंद्र सरकार को तीनों सेनाओं के बारे में जानकारी दी गई है। युवा चार साल के लिए सेना में सेवा देगा। सेना सबसे अच्छे ‘अग्निवीर’ को रखेगी, जबकि शेष के पास अन्य व्यवसायों के लिए विकल्प होगा।  इसके अलावा, military-trained युवाओं को काम पर रखने के लिए Corporate company सरकार के संपर्क में हैं।  सामान्य और practical दोनों तरह के काम करने के लिए चार साल के समय में सैनिकों को अच्छे से  सिखाया जाएगा।  यह Armed Forces में अलग अलग कामों के लिए सैनिकों की भर्ती से  बिलकुल अलग होगी।

एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया

अग्निपथ प्रवेश योजना में आवेदन करने की प्रक्रिया

आवेदक को सभी आवश्यक चिकित्सा मानदंड पूरे करने के साथ न्यूनतम उम्र सीमा 17.5 वर्ष एवं अधिकतम उम्र सीमा 21 वर्ष है, भारत का स्थाई निवासी एवं 10 वीं या 12 वीं कक्षा उत्तीर्ण होना चाहिए। योजना के लिए अभी कोई आवेदन प्रक्रिया नहीं है क्योंकि सरकार द्वारा अभी  इसकी घोषणा नहीं की गई है। जैसे ही सरकार इस कार्यक्रम को शुरू करने की घोषणा करती है, हम आपको यहां पूरी जानकारी प्रदान करेंगे।

अग्निपथ प्रवेश योजना:  यहा युवक चार साल के लिए सेना में सेवा कर सकेंगे |

इसका मकसद रक्षा बलों के खर्चे और आयु प्रोफ़ाइल को कम करना है।  सरकार अग्निपथ प्रवेश योजना नाम से एक नया कार्यक्रम शुरू करने की तैयारी कर रही है।  युवा चार साल के लिए सेना में शामिल होंगे और देश की सेवा करेंगे।  government sources के अनुसार, युवा अग्निपथ प्रवेश योजना के माध्यम से सेना में शामिल होंगे और उन्हें अग्निवीर के रूप में जाना जाएगा।

सभी सेनाएं ने इस कार्यक्रम पर सरकार के सामने अपनी आखिरी प्रेजेंटेशन दी हैं। सेना अच्छे अग्निवीरों को रखेगी, जबकि शेष युवकों के पास अन्य कार्य करने का विकल्प होगा। military-trained युवाओं को काम पर रखने के लिए corporate company सरकार के संपर्क में हैं।  Covid-19 के कारण, पिछले दो वर्षों में  Armed Forces के प्रवेश में काफी कमी आई है।  रिकॉर्ड के मुताबिक, रक्षा बलों के पास अब 1.25 लाख पद खाली हैं।

अग्निपथ प्रवेश योजना : Private enterprises भी अग्निपथ प्रवेश योजना के तहत रोजगार के मोके दे सकती हैं।

चार वर्षों के बाद, ज्यादातर सैनिकों को इस से मुक्त कर दिया जाएगा और उन्हें अन्य कार्य पाने के लिए Armed Forces से सहायता मिलेगी।  Corporate America अच्छे और अनुशासन वाले जवानों को नौकरी देने में रुचि दिखा रहा है।  Armed Forces की शुरुआत में salary , allowances और पेंशन में हजारों करोड़ रुपये की बचत होगी।  केवल अग्निवीर के रूप में भर्ती किए गए युवाओं में से उत्तम युवा ही अपनी सेवा जारी रख सकेंगे । Administration जल्द ही officially घोषणा कर सकता है।

अग्निपथ भर्ती प्रवेश योजना भर्ती योजना 2022

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

 प्रश्न मैं 2022 में अग्निपथ भर्ती योजना के लिए आवेदन कैसे कर सकता हूं?

 उ. आवेदन प्रक्रिया अभी शुरू नहीं हुई है।  Officials से आगे की जानकारी मिलते ही हम आपको update करेंगे।

 प्रश्न. अग्निपथ योजना 2022 में भर्ती होने के लिए पात्रता क्या है?

 उ. आवेदक को सभी आवश्यक चिकित्सा मानदंड पूरे करने के साथ न्यूनतम उम्र सीमा 17.5 वर्ष एवं अधिकतम उम्र सीमा 21 वर्ष है, भारत का स्थाई निवासी एवं 10 वीं या 12 वीं कक्षा उत्तीर्ण होना चाहिए।

 प्रश्न. अग्निपथ भर्ती प्रवेश योजना 2022 में चार साल की सेवा के बाद युवाओं के पास क्या मोके होंगे?

 उ. चार साल की duty के बाद, युवाओं को प्रारंभिक अवधारणा के अनुसार, private sector में civil पदों में पेशकश दी जाएगी।

 प्रश्न. अग्निपथ योजना 2022 के लिए भर्ती होने वालों को क्या कहा जाएगा?

 उ.. भर्ती होने वाले युवाओं को अग्निवीर नाम दिया जाएगा।

Leave a Comment