G20 की स्थापना कब की गई थी?

G20, या ग्रुप ऑफ़ ट्वेंटी, दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओं का एक मंच है। यह वैश्विक आर्थिक मुद्दों पर चर्चा करने के लिए 19 देशों के नेताओं और यूरोपीय संघ को एक साथ लाता है। G20 की स्थापना 1999 में 1990 के वित्तीय संकट के जवाब में की गई थी। इस लेख में, हम G20 के इतिहास, इसके गठन के पीछे के कारणों और वैश्विक अर्थव्यवस्था में इसकी भूमिका के बारे में जानेंगे।

G20 की पृष्ठभूमि:

1990 के दशक की शुरुआत में, सोवियत संघ के पतन और एशियाई वित्तीय संकट सहित दुनिया को वित्तीय संकटों की एक श्रृंखला का सामना करना पड़ा। इन घटनाओं ने अंतरराष्ट्रीय वित्तीय प्रणाली की नाजुकता और संकटों को रोकने और प्रबंधित करने के लिए देशों के बीच बेहतर समन्वय की आवश्यकता को उजागर किया है। उस समय, G7 या सात का समूह, दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओं के बीच आर्थिक सहयोग के लिए प्राथमिक मंच था।

हालांकि, कई देशों ने महसूस किया कि जी7 वैश्विक अर्थव्यवस्था की विविधता का प्रतिनिधित्व नहीं करता है और इसकी निर्णय लेने की प्रक्रिया अलोकतांत्रिक है। परिणामस्वरूप, 1999 में, 19 देशों और यूरोपीय संघ के वित्त मंत्री और केंद्रीय बैंक के गवर्नर G20 की स्थापना के लिए बर्लिन में एकत्र हुए। G20 में G7 देश (कनाडा, फ्रांस, जर्मनी, इटली, जापान, यूनाइटेड किंगडम और संयुक्त राज्य अमेरिका) के साथ-साथ ब्राजील, चीन, भारत, मैक्सिको और दक्षिण अफ्रीका जैसी उभरती हुई अर्थव्यवस्थाएं शामिल हैं।

G20 का गठन:

G20 की स्थापना एशियाई वित्तीय संकट के बाद हुई थी, जो 1997 में शुरू हुआ था और जिसका वैश्विक अर्थव्यवस्था पर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ा था। इस संकट ने वित्तीय संकटों को रोकने और प्रबंधित करने के लिए देशों के बीच बेहतर समन्वय की आवश्यकता पर प्रकाश डाला। आर्थिक मुद्दों पर चर्चा करने और नीतियों के समन्वय के लिए दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओं को एक साथ लाकर इस आवश्यकता को पूरा करने के लिए G20 का गठन किया गया था।

G20 की पहली बैठक दिसंबर 1999 में बर्लिन में आयोजित की गई थी। इस बैठक में, वित्त मंत्रियों और केंद्रीय बैंक के गवर्नरों ने अंतरराष्ट्रीय वित्तीय प्रणाली को मजबूत करने और आर्थिक विकास को बढ़ावा देने के तरीकों पर चर्चा की। वे वित्तीय संकटों के जोखिम को कम करने और संकट प्रबंधन में सुधार करने के तरीकों की जांच करने के लिए एक कार्य समूह स्थापित करने पर भी सहमत हुए।

वैश्विक अर्थव्यवस्था में G20 की भूमिका:

अपनी स्थापना के बाद से, G20 वैश्विक आर्थिक सहयोग के लिए एक महत्वपूर्ण मंच बन गया है। G20 देश वैश्विक सकल घरेलू उत्पाद का लगभग 80% और दुनिया की आबादी का दो-तिहाई प्रतिनिधित्व करते हैं। जी20 ने 2008 के वित्तीय संकट के लिए वैश्विक प्रतिक्रिया के समन्वय में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है, जो कि महामंदी के बाद से सबसे खराब स्थिति थी।

2008 के वित्तीय संकट के दौरान, G20 ने वैश्विक अर्थव्यवस्था को स्थिर करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। नवंबर 2008 में, G20 देशों के नेता वित्तीय प्रणाली में विश्वास बहाल करने और आर्थिक विकास को बढ़ावा देने के तरीकों पर चर्चा करने के लिए वाशिंगटन, डीसी में एकत्रित हुए। वे एक समन्वित प्रतिक्रिया पर सहमत हुए, जिसमें राजकोषीय प्रोत्साहन, मौद्रिक नीति उपाय और वित्तीय क्षेत्र में सुधार शामिल थे।

तब से, G20 ने वैश्विक आर्थिक चुनौतियों का समाधान करने में भूमिका निभाना जारी रखा है। हाल के वर्षों में, G20 ने व्यापार, जलवायु परिवर्तन और डिजिटलीकरण जैसे मुद्दों पर ध्यान केंद्रित किया है। 2017 में, G20 नेताओं ने समावेशी और सतत आर्थिक विकास को बढ़ावा देने के लिए मिलकर काम करने पर सहमति व्यक्त की।

निष्कर्ष:

G20 की स्थापना 1999 में वित्तीय संकटों को रोकने और प्रबंधित करने के लिए देशों के बीच बेहतर समन्वय की आवश्यकता को पूरा करने के लिए की गई थी। तब से, G20 वैश्विक आर्थिक सहयोग के लिए एक महत्वपूर्ण मंच बन गया है। जी20 ने 2008 के वित्तीय संकट की वैश्विक प्रतिक्रिया के समन्वय में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है और वैश्विक आर्थिक चुनौतियों का समाधान करना जारी रखा है। चूंकि दुनिया नई आर्थिक चुनौतियों का सामना कर रही है, इसलिए जी20 आर्थिक विकास और स्थिरता को बढ़ावा देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता रहेगा।

Leave a Comment