RARE EARTH ELEMENT | जानिए क्या होते हैं  दुर्लभ पृथ्वी तत्व |

दुर्लभ पृथ्वी तत्व (REE) 17 तत्वों का एक समूह है जो कई उच्च-तकनीकी उत्पादों के उत्पादन में महत्वपूर्ण हैं, जिनमें इलेक्ट्रिक वाहन, स्मार्टफोन और पवन टर्बाइन शामिल हैं। इन तत्वों को अक्सर “दुर्लभ” कहा जाता है क्योंकि वे पृथ्वी की पपड़ी में अपेक्षाकृत कम सांद्रता में पाए जाते हैं, जिससे उन्हें निकालना मुश्किल और महंगा हो जाता है। इस निबंध में, हम दुर्लभ पृथ्वी तत्वों के गुण, उपयोग, निष्कर्षण और पर्यावरणीय प्रभावों का पता लगाएंगे।

क्रमबद्ध सूची hide

दुर्लभ पृथ्वी तत्व के गुण जो उन्हें उपयोगी बनाते हैं | Properties of REE that make them useful.

उच्च गलनांक और क्वथनांक | High Melting and Boiling Points

दुर्लभ पृथ्वी तत्व में उच्च गलनांक और क्वथनांक होते हैं, जो इन्हें उच्च तापमान अनुप्रयोगों में उपयोगी बनाते हैं। उदाहरण के लिए, माइक्रोवेव फिल्टर और सुपरकंडक्टर्स के उत्पादन में yttrium का उपयोग 1526 डिग्री सेल्सियस के उच्च पिघलने बिंदु के कारण किया जाता है। आरईई में सबसे भारी ल्यूटेटियम का गलनांक 1663 डिग्री सेल्सियस है, जो इसे विमान के इंजन और परमाणु रिएक्टर जैसे उच्च तापमान अनुप्रयोगों में उपयोगी बनाता है।

अच्छी विद्युत चालकता | Good Electrical Conductivity

REE अच्छे विद्युत चालक होते हैं, जो उन्हें इलेक्ट्रॉनिक अनुप्रयोगों में उपयोगी बनाते हैं। उदाहरण के लिए, इलेक्ट्रिक वाहनों, पवन टर्बाइनों और कंप्यूटर हार्ड ड्राइव के लिए स्थायी चुम्बकों के उत्पादन में नियोडिमियम और समैरियम का उपयोग किया जाता है। यूरोपियम और टेरबियम का उपयोग उनके ल्यूमिनसेंट गुणों के कारण फ्लोरोसेंट रोशनी के उत्पादन में किया जाता है।

मजबूत चुंबकीय गुण | Strong Magnetic Properties

REE को उनके मजबूत चुंबकीय गुणों के लिए भी जाना जाता है। दुनिया में सबसे मजबूत स्थायी चुंबक बनाने के लिए नियोडिमियम, प्रेसियोडीमियम और डिस्प्रोसियम का उपयोग किया जाता है। इन चुम्बकों का उपयोग विभिन्न प्रकार के अनुप्रयोगों में किया जाता है, जिनमें इलेक्ट्रिक वाहन और पवन टर्बाइन शामिल हैं।

उच्च अपवर्तक सूचकांक | High Refractive Index

REE का उच्च अपवर्तक सूचकांक है, जो उन्हें लेंस और ऑप्टिकल फाइबर के उत्पादन में उपयोगी बनाता है। लेंस और कैमरा फिल्टर के लिए कांच के उत्पादन में लैंथेनम और सेरियम का उपयोग किया जाता है। थर्मल इमेजिंग कैमरों के लिए इन्फ्रारेड फिल्टर के उत्पादन में प्रेसियोडीमियम का उपयोग किया जाता है।

चमक | Luminescence

कुछ REE, जैसे यूरोपियम और टेरबियम, अत्यधिक ल्यूमिनेसेंट हैं और फ्लोरोसेंट प्रकाश व्यवस्था के उत्पादन में उपयोग किए जाते हैं। प्रकाश की कुछ तरंग दैर्ध्य के संपर्क में आने पर ये तत्व प्रकाश का उत्सर्जन करते हैं, जो उन्हें विभिन्न प्रकार के अनुप्रयोगों में उपयोगी बनाता है।

रेडियोधर्मिता | Radioactivity

कुछ REE , जैसे प्रोमेथियम, रेडियोधर्मी हैं और चिकित्सा उपचार में उपयोग किए गए हैं। हालांकि, कुछ आरईई के रेडियोधर्मी गुण भी मानव स्वास्थ्य और पर्यावरण के लिए जोखिम पैदा कर सकते हैं यदि ठीक से संभाला न जाए।

>>Layers of earth : चलिए पृथ्वी के रहस्यों को उजागर करते है।

 दुर्लभ पृथ्वी तत्वों का अनुप्रयोग | Application of (REE) rare earth elements

दुर्लभ पृथ्वी तत्वों (REE) के विभिन्न उद्योगों में व्यापक अनुप्रयोग हैं।

इलेक्ट्रानिक्स |Electronics

REE का उपयोग उनके अद्वितीय विद्युत और चुंबकीय गुणों के कारण इलेक्ट्रॉनिक्स उद्योग में बड़े पैमाने पर किया जाता है। उदाहरण के लिए, नियोडिमियम और समैरियम का उपयोग इलेक्ट्रिक मोटर्स और जनरेटर के लिए उच्च-प्रदर्शन वाले मैग्नेट के उत्पादन में किया जाता है। ये चुंबक इलेक्ट्रिक वाहन, पवन टर्बाइन और अन्य नवीकरणीय ऊर्जा प्रौद्योगिकियों के महत्वपूर्ण घटक हैं।

निकल-धातु हाइड्राइड बैटरी बनाने के लिए सेरियम और लैंथेनम का उपयोग किया जाता है, जो हाइब्रिड और इलेक्ट्रिक वाहनों में उपयोग किया जाता है। टीवी और कंप्यूटर मॉनीटर के लिए कैथोड रे ट्यूब के उत्पादन में आरईई का भी उपयोग किया जाता है।

कटैलिसीस | Catalysis

विभिन्न रासायनिक प्रतिक्रियाओं में उत्प्रेरक के रूप में आरईई का व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है। उदाहरण के लिए, सेरियम ऑक्साइड का उपयोग पेट्रोलियम के उत्पादन में उत्प्रेरक के रूप में किया जाता है, और इसका उपयोग डीजल ईंधन से अशुद्धियों को दूर करने के लिए भी किया जा सकता है। उच्च-ऑक्टेन गैसोलीन के उत्पादन में लैंथेनम का उपयोग उत्प्रेरक के रूप में किया जाता है, जबकि येट्रियम का उपयोग सिंथेटिक रबर के उत्पादन में किया जाता है।

प्रकाश | Lighting

REE का उपयोग ऊर्जा-कुशल प्रकाश व्यवस्था के उत्पादन में किया जाता है, जिसमें फ्लोरोसेंट लैंप, कॉम्पैक्ट फ्लोरोसेंट लैंप (सीएफएल) और प्रकाश उत्सर्जक डायोड (एलईडी) शामिल हैं। यूरोपियम और टेरबियम का उपयोग फ्लोरोसेंट लैंप में क्रमशः लाल और हरे रंग के फॉस्फोर के उत्पादन के लिए किया जाता है। लैंप के लिए यूवी-ब्लॉकिंग ग्लास के उत्पादन में सेरियम का उपयोग किया जाता है।

कांच और मिट्टी के पात्र | Glass and Ceramics

REEका उपयोग उनके अद्वितीय ऑप्टिकल और थर्मल गुणों के कारण कांच और सिरेमिक के उत्पादन में किया जाता है। लैंथेनम और सेरियम का उपयोग कैमरा लेंस और फिल्टर के लिए ग्लास बनाने के लिए किया जाता है, जबकि यत्रियम ऑक्साइड का उपयोग विमान के इंजन और अन्य उच्च तापमान अनुप्रयोगों के लिए उच्च तापमान वाले सिरेमिक के उत्पादन में किया जाता है।

एयरोस्पेस | Aerospace

REE का उपयोग एयरोस्पेस उद्योग में भी किया जाता है। यत्रियम का उपयोग इसके उच्च तापमान गुणों के कारण जेट इंजन के उत्पादन में किया जाता है, जबकि लेण्टेनियुम का उपयोग सैन्य विमानों में प्रयुक्त इन्फ्रारेड कैमरों के लिए लेंस बनाने के लिए किया जाता है।

चिकित्सा अनुप्रयोग | Medical Applications

कुछ REE में उनके रेडियोधर्मी गुणों के कारण चिकित्सा अनुप्रयोग होते हैं। उदाहरण के लिए, समैरियम-153 का उपयोग हड्डी के कैंसर के उपचार में किया जाता है, जबकि यट्रियम-90 का उपयोग लीवर कैंसर के उपचार में किया जाता है।

रक्षा अनुप्रयोग | Defense Applications

REE का उपयोग विभिन्न प्रकार के रक्षा अनुप्रयोगों में भी किया जाता है। उदाहरण के लिए, युरोपियम का उपयोग रात्रि-दृष्टि उपकरणों के लिए फॉस्फोर के उत्पादन में किया जाता है, जबकि गैडोलिनियम का उपयोग परमाणु रिएक्टरों के लिए नियंत्रण छड़ बनाने के लिए किया जाता है।

दुर्लभ पृथ्वी तत्वों का निष्कर्षण  | Extraction of rare earth elements

दुर्लभ पृथ्वी तत्वों का निष्कर्षण एक जटिल और महंगी प्रक्रिया है। तत्व अक्सर ऐसे अयस्कों में पाए जाते हैं जिनमें यूरेनियम और थोरियम जैसे रेडियोधर्मी तत्व भी होते हैं, जो निष्कर्षण प्रक्रिया को और भी कठिन बना देता है। दुर्लभ पृथ्वी तत्वों को निकालने की दो मुख्य विधियाँ हैं: खनन और पुनर्चक्रण।

खनन | Mining

 दुर्लभ पृथ्वी तत्वों को निकालने की पारंपरिक विधि खनन के माध्यम से होती है। अयस्क का पहले खनन किया जाता है और फिर छोटे-छोटे टुकड़ों में कुचल दिया जाता है। अयस्क में अन्य तत्वों से दुर्लभ पृथ्वी तत्वों को अलग करने के लिए अयस्क को लीचिंग और सॉल्वेंट एक्सट्रैक्शन सहित रासायनिक प्रक्रियाओं की एक श्रृंखला के अधीन किया जाता है। यह प्रक्रिया एक रेयर अर्थ कंसन्ट्रेट पैदा करती है जिसे बाद में अलग-अलग रेयर अर्थ तत्वों के उत्पादन के लिए आगे संसाधित किया जाता है।

पुनर्चक्रण | Recycling

दुर्लभ पृथ्वी तत्वों को प्राप्त करने की एक अन्य विधि पुनर्चक्रण के माध्यम से है। कई हाई-टेक उत्पाद, जैसे स्मार्टफोन और कंप्यूटर हार्ड ड्राइव में दुर्लभ पृथ्वी तत्व होते हैं। जब इन उत्पादों को छोड़ दिया जाता है, तो शहरी खनन नामक एक प्रक्रिया के माध्यम से दुर्लभ पृथ्वी तत्वों को पुनः प्राप्त किया जा सकता है। इसमें उत्पादों को नष्ट करना और दुर्लभ पृथ्वी तत्वों को अन्य सामग्रियों से अलग करना शामिल है। जबकि पुनर्चक्रण दुर्लभ पृथ्वी तत्वों को प्राप्त करने का एक अधिक टिकाऊ तरीका है, प्रक्रिया की उच्च लागत के कारण अभी तक इसका व्यापक रूप से उपयोग नहीं किया जाता है।

दुर्लभ पृथ्वी तत्व खनन के पर्यावरणीय प्रभाव |  Environmental Impacts of Rare Earth Element Mining

दुर्लभ पृथ्वी तत्वों की निकासी के महत्वपूर्ण पर्यावरणीय प्रभाव हो सकते हैं। खनन के परिणामस्वरूप यूरेनियम और थोरियम जैसे रेडियोधर्मी पदार्थ निकल सकते हैं, जो पानी और मिट्टी को दूषित कर सकते हैं। निष्कर्षण प्रक्रिया में प्रयुक्त रसायनों का पर्यावरण और मानव स्वास्थ्य पर भी विषैला प्रभाव हो सकता है। इसके अलावा, खनन के लिए आवासों के विनाश से जैव विविधता का नुकसान हो सकता है।

निष्कर्ष

अंत में, दुर्लभ पृथ्वी तत्व (आरईई) 17 तत्वों का एक समूह है जिसमें अद्वितीय गुण होते हैं जो उन्हें विभिन्न प्रकार के अनुप्रयोगों में मूल्यवान बनाते हैं। वे इलेक्ट्रॉनिक्स उद्योग, कटैलिसीस, प्रकाश व्यवस्था, कांच और चीनी मिट्टी की चीज़ें, एयरोस्पेस, चिकित्सा अनुप्रयोगों और रक्षा अनुप्रयोगों में बड़े पैमाने पर उपयोग किए जाते हैं।

हालांकि, आरईई के निष्कर्षण और उपयोग के नकारात्मक पर्यावरणीय प्रभाव भी हो सकते हैं, जैसे कि मिट्टी और पानी का संदूषण, वनों की कटाई और वन्यजीव आवास विनाश। इसलिए, यह सुनिश्चित करना महत्वपूर्ण है कि पर्यावरण और स्थानीय समुदायों को ध्यान में रखते हुए उनका निष्कर्षण और उपयोग एक स्थायी और जिम्मेदार तरीके से किया जाता है।

इसके अलावा, कुछ देशों, मुख्य रूप से चीन में आरईई की एकाग्रता के कारण, इन तत्वों के लिए आपूर्ति श्रृंखला सुरक्षा के बारे में चिंता है। आरईई के स्रोतों में विविधता लाने और अधिक कुशल और टिकाऊ निष्कर्षण विधियों को विकसित करने के प्रयास किए जा रहे हैं।

कुल मिलाकर, आरईई आधुनिक तकनीक और उद्योग का एक अनिवार्य हिस्सा हैं, और उनका महत्व बढ़ने की उम्मीद है। पर्यावरण और अर्थव्यवस्था दोनों के लिए उनका जिम्मेदार और टिकाऊ उपयोग सुनिश्चित करना महत्वपूर्ण है।

Leave a Comment