Geographical Indications Tag: भौगोलिक संकेत (GI Tag) क्या है? और यह कैसे दिया जाता है!

भौगोलिक संकेत ( GI Tag ) वाले सामानों को सुरक्षा प्रदान करने के लिए भारत में भौगोलिक संकेतक (पंजीकरण और संरक्षण) अधिनियम, 1999 {The Geographical Indications of Goods (Registration and Protection)Act, 1999} पेश किया गया था। इस लेख में, हम चर्चा करेंगे कि जीआई टैग क्या है, इसका महत्व, लाभ और भारत में जीआई-टैग किए गए उत्पादों के उदाहरण।

जीआई टैग क्या है? | What is a GI Tag? 

जीआई (GI) टैग  उन उत्पादों पर इस्तेमाल किया जाने वाला एक चिन्ह है, जिनकी एक विशिष्ट भौगोलिक (Geographical) उत्पत्ति होती है और उन गुणों या प्रतिष्ठा से युक्त होते हैं जो उस मूल के कारण होते हैं। टैग एक संकेत है जो कि उत्पाद में कुछ गुण, विशेषताएं या प्रतिष्ठा  बताता है और यह उस भौगोलिक क्षेत्र के लिए अद्वितीय है।

जीआई टैग (GI Tag) के उद्देश्य | Objectives of GI Tags

जीआई टैग के विभिन्न उद्देश्य हैं, जिनमें शामिल हैं:

स्थानीय समुदायों का संरक्षण | Protection of local communities

जीआई टैग उन स्थानीय समुदायों के पारंपरिक ज्ञान और प्रथाओं की रक्षा करता है जो पीढ़ियों से उत्पाद का उत्पादन कर रहे हैं।

उपभोक्ताओं का संरक्षण | Protection of consumers

जीआई टैग उपभोक्ताओं को नकली या घटिया उत्पादों से बचाता है जिन्हें मूल उत्पाद के रूप में गलत तरीके से लेबल किया जा सकता है।

निर्यात को बढ़ावा | Promotion of exports

जीआई टैग प्रामाणिक उत्पादों के निर्यात को बढ़ावा देता है जिनमें अद्वितीय गुण होते हैं और एक विशिष्ट भौगोलिक स्थान से जुड़े होते हैं।

जीआई टैग का प्रारंभिक इतिहास | Early History of GI Tags

जीआई टैग का सबसे पहला रिकॉर्ड किया गया उपयोग 15वीं शताब्दी में हुआ था, जब फ्रांस के रोकेफोर्ट शहर ने भेड़ के दूध से बने एक अनोखे प्रकार के पनीर का उत्पादन शुरू किया था। इस पनीर का नाम रॉकफोर्ट रखा गया था और यह अपने विशिष्ट स्वाद और बनावट के लिए जाना जाता था। Roquefort पनीर के निर्माता अपने उत्पाद की उत्पत्ति और अद्वितीय गुणों की रक्षा के महत्व को पहचानने वाले पहले व्यक्ति थे, और उन्होंने अपने पनीर की पहचान करने के तरीके के रूप में “Roquefort” शब्द का उपयोग करना शुरू किया।

समय के साथ, यूरोप के अन्य क्षेत्रों ने विशिष्ट भौगोलिक उत्पत्ति और अद्वितीय गुणों के साथ अद्वितीय उत्पादों का उत्पादन शुरू किया। जवाब में, इन क्षेत्रों में उत्पादकों ने अपने उत्पादों को नकल और दुरुपयोग से बचाने के लिए जीआई टैग का उपयोग करना शुरू कर दिया।

>>EXTRACTION OF REE  |  आखिर क्यो कठिन  है दुर्लभ पृथ्वी तत्व का निष्कर्षण करना

यूरोप में जीआई टैग का विकास | Development of GI Tags in Europe

जीआई टैग की आधुनिक अवधारणा यूरोप में 20वीं सदी की शुरुआत में विकसित हुई थी। 1919 में, फ्रांसीसी सरकार ने एक कानून पारित किया जिसने क्षेत्रीय उत्पादों की सुरक्षा के महत्व को मान्यता दी और क्षेत्रीय नामों और उत्पादों की सुरक्षा के लिए एक प्रणाली स्थापित की। इस प्रणाली को “Appellation d’Origine Contrôlée”  (AOC) के रूप में जाना जाता था, जो “मूल के नियंत्रित पदनाम” का अनुवाद करता है।

एओसी प्रणाली के तहत, एक विशिष्ट क्षेत्र में उत्पादित उत्पादों और विशिष्ट गुणों वाले उत्पादों को कानूनी संरक्षण दिया गया था। AOC पदनाम के उपयोग को सख्ती से नियंत्रित किया गया था, और केवल सख्त मानदंडों को पूरा करने वाले उत्पादों को ही पदनाम का उपयोग करने की अनुमति दी गई थी।

AOC प्रणाली फ़्रांस में सफल रही, और अन्य यूरोपीय देशों ने जल्द ही अपने स्वयं के क्षेत्रीय उत्पादों की सुरक्षा के लिए समान प्रणालियों को अपनाया। इटली में, सिस्टम को “”Denominazione di Origine Controllata” (DOC)  के रूप में जाना जाता था, जबकि स्पेन में, इसे “”Denominación de Origen” (DO) के रूप में जाना जाता था।

भारत में जीआई टैग का विकास | Development of GI Tags in India

1994 में World Trade Organization (WTO) द्वारा Trade-Related Aspects of Intellectual Property Rights (TRIPS) के व्यापार-संबंधित पहलुओं पर समझौते को अपनाने के बाद, भारत में GI टैग की अवधारणा को 1990 के दशक के अंत में पेश किया गया था। TRIPS ने सुरक्षा के महत्व को मान्यता दी। भौगोलिक संकेत और आवश्यक विश्व व्यापार संगठन के सदस्य देश इन संकेतों के लिए कानूनी सुरक्षा प्रदान करते हैं।

जवाब में, भारत सरकार ने 1999 में भौगोलिक संकेतक (पंजीकरण और संरक्षण) अधिनियम पारित किया। इस अधिनियम ने भारतीय जीआई उत्पादों के लिए कानूनी सुरक्षा प्रदान की और जीआई टैग के पंजीकरण और सुरक्षा के लिए एक प्रणाली स्थापित की।

भारतीय जीआई प्रणाली के तहत, उत्पाद जो एक विशिष्ट क्षेत्र में उत्पादित होते हैं और विशिष्ट गुण होते हैं, जीआई टैग पंजीकरण के लिए पात्र होते हैं। पंजीकरण प्रक्रिया में भौगोलिक संकेत रजिस्ट्री के साथ एक आवेदन दाखिल करना शामिल है, जो यह सुनिश्चित करने के लिए आवेदन की जांच करता है कि यह अधिनियम की आवश्यकताओं को पूरा करता है।

यदि आवेदन स्वीकार किया जाता है, तो जीआई टैग पंजीकृत होता है और भौगोलिक संकेत जर्नल में प्रकाशित होता है। कोई भी व्यक्ति एक निर्दिष्ट अवधि के भीतर जीआई टैग के पंजीकरण पर आपत्ति कर सकता है, और यदि आपत्ति होती है, तो भौगोलिक संकेत रजिस्ट्री द्वारा सुनवाई की जाती है।

जीआई टैग का प्रभाव | Impact of GI Tags

जीआई टैग का प्रभाव यूरोप और भारत दोनों में महत्वपूर्ण रहा है। यूरोप में, जीआई टैग ने क्षेत्रीय उत्पादों की पहचान और विरासत की रक्षा करने, ग्रामीण क्षेत्रों में आर्थिक विकास को बढ़ावा देने और उपभोक्ताओं को गुणवत्ता का आश्वासन प्रदान करने में मदद की है।

भारत में, जीआई टैग ने पारंपरिक उत्पादों की पहचान की रक्षा करने और ग्रामीण विकास को बढ़ावा देने में मदद की है। जीआई टैग के पंजीकरण से किसानों और कारीगरों के उत्पादों के लिए बाजार बनाकर और बिचौलियों के शोषण को रोककर उनकी आय बढ़ाने में मदद मिली है।

जीआई टैग के प्रचार और संरक्षण से इन उत्पादों के उत्पादन से जुड़े पारंपरिक ज्ञान और कौशल को संरक्षित करने में भी मदद मिली है। इससे सांस्कृतिक विविधता को बनाए रखने और प्राकृतिक संसाधनों और जैव विविधता को संरक्षित करके सतत विकास को बढ़ावा देने में मदद मिली है।

जीआई टैग को लागू करने में चुनौतियां | Challenges in Implementing GI Tags

जीआई टैग का कार्यान्वयन इसकी चुनौतियों के बिना नहीं रहा है। जीआई टैग के महत्व के बारे में उत्पादकों और उपभोक्ताओं के बीच जागरूकता की कमी मुख्य चुनौतियों में से एक है। कई उत्पादकों को जीआई टैग के लाभों के बारे में पता नहीं है, और कई उपभोक्ताओं को उत्पादों की गुणवत्ता और प्रामाणिकता सुनिश्चित करने में इन टैगों के महत्व के बारे में पता नहीं है।

एक और चुनौती जीआई टैग को लागू करने और लागू करने के लिए संसाधनों और बुनियादी ढांचे की कमी है। ग्रामीण क्षेत्रों में कई उत्पादकों के पास अपने उत्पादों को पंजीकृत करने और उनकी सुरक्षा करने के लिए संसाधनों और विशेषज्ञता की कमी है, और सरकार के पास नियमों को प्रभावी ढंग से लागू करने और लागू करने के लिए अक्सर संसाधनों और बुनियादी ढांचे की कमी होती है।

इसके अलावा, जीआई टैग का पंजीकरण कभी-कभी एक लंबी और जटिल प्रक्रिया हो सकती है, जो उत्पादकों को पंजीकरण कराने से हतोत्साहित कर सकती है।

जीआई टैग के लाभ | Benefits of GI Tags

जीआई टैग के लाभों में शामिल हैं:

विरासत और संस्कृति का संरक्षण |

जीआई टैग किसी विशेष उत्पाद से जुड़ी विरासत और संस्कृति की रक्षा करते हैं और पारंपरिक ज्ञान और प्रथाओं को बढ़ावा देते हैं।

आर्थिक विकास | Economic development

जीआई टैग ग्रामीण क्षेत्रों में रोजगार के अवसर पैदा करके और पर्यटन को बढ़ावा देकर आर्थिक विकास को बढ़ावा देता है।

गुणवत्ता आश्वासन | Quality assurance 

 जीआई टैग उपभोक्ताओं को उत्पाद की गुणवत्ता और प्रामाणिकता का आश्वासन देता है।

जीआई टैग प्राप्त करने की प्रक्रिया | Process of Obtaining a GI Tag

जीआई टैग प्राप्त करने की प्रक्रिया में निम्नलिखित चरण शामिल हैं:

आवेदन पत्र | Application

 आवेदक भौगोलिक संकेत रजिस्ट्री के साथ जीआई टैग के लिए एक आवेदन दायर करता है।

इंतिहान | Examination

भौगोलिक संकेत रजिस्ट्री यह सुनिश्चित करने के लिए आवेदन की जांच करती है कि यह भौगोलिक संकेतक माल (पंजीकरण और संरक्षण) अधिनियम की आवश्यकताओं को पूरा करता है।

प्रकाशन | Publication

यदि आवेदन स्वीकार किया जाता है, तो इसे भौगोलिक संकेतक जर्नल में प्रकाशित किया जाता है।

आपत्तियां | Objections

कोई भी व्यक्ति निर्धारित अवधि के भीतर जीआई टैग के पंजीकरण पर आपत्ति जता सकता है।

श्रवण | Hearing

आपत्ति होने पर भौगोलिक संकेतक रजिस्ट्री द्वारा सुनवाई की जाती है।

पंजीकरण | Registration

 यदि कोई आपत्ति नहीं है या आपत्तियों को खारिज कर दिया जाता है, तो जीआई टैग को पंजीकृत किया जाता है और भौगोलिक संकेत जर्नल में प्रकाशित किया जाता है।

जीआई टैग का महत्व | Significance of GI Tag

जीआई टैग उन वस्तुओं के उत्पादकों को कानूनी सुरक्षा प्रदान करता है जिनकी एक विशिष्ट भौगोलिक उत्पत्ति होती है। यह सुनिश्चित करता है कि समान उत्पादों को बेचने के लिए कोई अन्य उत्पाद के नाम या क्षेत्र के नाम का उपयोग नहीं कर सकता है। यह नकल, धोखाधड़ी और गलत बयानी को रोकने में मदद करता है और उत्पाद की गुणवत्ता को बढ़ावा देता है।

भारत में जीआई-टैग किए गए उत्पादों के उदाहरण | Examples of GI-Tagged Products in India

भारत में जीआई-टैग किए गए उत्पादों के उदाहरण | Examples of GI-Tagged Products in India

दार्जिलिंग चाय | Darjeeling Tea 

यह चाय पश्चिम बंगाल के दार्जिलिंग जिले में उगाई जाती है और इसका स्वाद और सुगंध अनोखा होता है। जीआई टैग सुनिश्चित करता है कि केवल क्षेत्र में उगाई जाने वाली चाय को ही दार्जिलिंग चाय के रूप में बेचा जा सकता है।

कांचीपुरम रेशम साड़ियों | Kanchipuram Silk Sarees –

 ये साड़ियां तमिलनाडु के कांचीपुरम जिले में बनाई जाती हैं और अपने अनूठे डिजाइन और टिकाऊपन के लिए जानी जाती हैं। जीआई टैग यह सुनिश्चित करता है कि केवल कांचीपुरम में बनी साड़ियों को कांचीपुरम सिल्क साड़ियों के रूप में बेचा जा सकता है।

अल्फांसो आम | Alphonso Mangoes

 ये आम महाराष्ट्र के रत्नागिरी और सिंधुदुर्ग जिलों में उगाए जाते हैं और अपने मीठे स्वाद और सुगंध के लिए जाने जाते हैं। जीआई टैग यह सुनिश्चित करता है कि केवल इन क्षेत्रों में उगाए जाने वाले आमों को अल्फांसो आमों के रूप में बेचा जा सकता है।

पश्मीना शॉल | Pashmina Shawls

ये शॉल पश्मीना बकरियों के ऊन से बने होते हैं और कश्मीर घाटी में बुने जाते हैं। जीआई टैग यह सुनिश्चित करता है कि केवल क्षेत्र में बने शॉल ही पश्मीना शॉल के रूप में बेचे जा सकते हैं।

नागपुर संतरा | Nagpur Orange

 ये संतरे महाराष्ट्र के नागपुर जिले में उगाए जाते हैं और अपने मीठे स्वाद और रस के लिए जाने जाते हैं। जीआई टैग यह सुनिश्चित करता है कि केवल क्षेत्र में उगाए जाने वाले संतरे ही नागपुर संतरे के रूप में बेचे जा सकते हैं।

>><strong>ARAVALI RANGE | जानिए क्यो ?अरावली पर्वत श्रृंखला को भारत की सबसे पुरानी श्रृंखला कहा जाता।</strong>

निष्कर्ष

अंत में, जीआई टैग के इतिहास को यूरोप में 15वीं शताब्दी की शुरुआत में खोजा जा सकता है, जहां उत्पादकों ने अपने उत्पादों के अद्वितीय गुणों और उत्पत्ति की रक्षा के महत्व को पहचाना। जीआई टैग की आधुनिक अवधारणा यूरोप में 20वीं सदी की शुरुआत में विकसित हुई थी और भारत ने 1990 के दशक के अंत में इस अवधारणा को अपनाया था।

जीआई टैग का पारंपरिक उत्पादों को बढ़ावा देने और उनकी रक्षा करने, सांस्कृतिक विरासत को संरक्षित करने और ग्रामीण विकास को बढ़ावा देने में महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ा है। हालांकि, जीआई टैग के कार्यान्वयन में उत्पादकों और उपभोक्ताओं के बीच जागरूकता की कमी, संसाधनों और बुनियादी ढांचे की कमी और लंबी और जटिल पंजीकरण प्रक्रिया जैसी चुनौतियों का सामना करना पड़ता है।

कुल मिलाकर, पारंपरिक उत्पादों की सुरक्षा और सतत विकास को बढ़ावा देने में जीआई टैग के महत्व को कम करके नहीं आंका जा सकता है। यह आवश्यक है कि निर्माता, उपभोक्ता और सरकारें जागरूकता बढ़ाने, संसाधन प्रदान करने और पंजीकरण प्रक्रिया को सुव्यवस्थित करने के लिए मिलकर काम करें ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि जीआई टैग के लाभ सभी को प्राप्त हों।

Author

    by
  • Isha Bajotra

    मैं जम्मू के क्लस्टर विश्वविद्यालय की छात्रा हूं। मैंने जियोलॉजी में ग्रेजुएशन पूरा किया है। मैं विस्तार पर ध्यान देती हूं। मुझे किसी नए काम पर काम करने में मजा आता है। मुझे हिंदी बहुत पसंद है क्योंकि यह भारत के हर व्यक्ति को आसानी से समझ में आ जाती है.. उद्देश्य: अवसर का पीछा करना जो मुझे पेशेवर रूप से विकसित करने की अनुमति देगा, जबकि टीम के लक्ष्यों को पार करने के लिए मेरे बहुमुखी कौशल का प्रभावी ढंग से उपयोग करेगा।

Leave a Comment