यहां दी गई है पूरी लिस्ट: जानिए UPSC के पहले अध्यक्ष कौन थे?

यूपीएससी (UPSC)

संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) एक संवैधानिक निकाय है जो भारत में विभिन्न केंद्र सरकार की नौकरियों के लिए भर्ती परीक्षा आयोजित करने के लिए जिम्मेदार है। इस प्रतिष्ठित संगठन ने देश में सिविल सेवा पदों के लिए सर्वश्रेष्ठ उम्मीदवारों के चयन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

यूपीएससी की स्थापना

संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) एक स्वतंत्र और निष्पक्ष संगठन है जो भारत में केंद्र सरकार की नौकरियों के लिए निष्पक्ष और पारदर्शी भर्ती प्रक्रिया सुनिश्चित करने की दिशा में काम कर रहा है। इसकी स्थापना 1 अक्टूबर 1926 को भारत सरकार अधिनियम, 1919 के प्रावधानों के तहत की गई थी। UPSC, 1926 से एक वैधानिक निकाय के रूप में कार्य कर रहा है और वर्षों से इसकी संरचना और जिम्मेदारियों में कई बदलाव हुए हैं।

एक स्वतंत्र भर्ती एजेंसी की आवश्यकता

यूपीएससी की स्थापना से पहले, केंद्र सरकार की नौकरियों के लिए भर्ती प्रक्रिया सरकार द्वारा ही की जाती थी। इससे भ्रष्टाचार, भाई-भतीजावाद और पारदर्शिता की कमी सहित कई समस्याएं पैदा हुईं। सिविल सेवा पदों के लिए सर्वश्रेष्ठ उम्मीदवारों का चयन सुनिश्चित करने के लिए भर्ती प्रक्रिया को संभालने के लिए एक स्वतंत्र एजेंसी की आवश्यकता महसूस की गई। सरकार ने महसूस किया कि सिविल सेवा की अखंडता और विश्वसनीयता बनाए रखने के लिए एक निष्पक्ष और पारदर्शी भर्ती प्रक्रिया आवश्यक थी।

यूपीएससी का गठन

संघ लोक सेवा आयोग की स्थापना 1 अक्टूबर 1926 को ली आयोग की सिफारिश के परिणामस्वरूप की गई थी। ली आयोग की स्थापना भारत में सिविल सेवाओं के कामकाज की समीक्षा करने और इसके सुधार के लिए सिफारिशें करने के लिए की गई थी। आयोग ने केंद्र सरकार की नौकरियों के लिए भर्ती प्रक्रिया को संभालने के लिए एक स्वतंत्र भर्ती एजेंसी के गठन की सिफारिश की। आयोग की सिफारिशों को स्वीकार कर लिया गया और यूपीएससी की स्थापना 1 अक्टूबर 1926 को हुई।

यूपीएससी के कार्य

यूपीएससी भारत में विभिन्न केंद्र सरकार की नौकरियों के लिए भर्ती परीक्षा आयोजित करने के लिए जिम्मेदार है। यह भारतीय प्रशासनिक सेवा (IAS), भारतीय विदेश सेवा (IFS), भारतीय पुलिस सेवा (IPS) और अन्य केंद्रीय सेवाओं में उच्च-स्तरीय अधिकारियों की नियुक्ति को भी संभालती है। इसके अलावा, UPSC भारतीय राजस्व सेवा (IRS), भारतीय लेखा परीक्षा और लेखा सेवा (IAAS) और भारतीय रेलवे लेखा सेवा (IRAS) जैसी विभिन्न अन्य सेवाओं के लिए परीक्षा आयोजित करने के लिए भी जिम्मेदार है।

यूपीएससी के अध्यक्ष

यूपीएससी का अध्यक्ष संगठन में सर्वोच्च रैंकिंग वाला अधिकारी होता है। अध्यक्ष को भारत के राष्ट्रपति द्वारा नियुक्त किया जाता है और वह छह साल की अवधि के लिए या 65 वर्ष की आयु तक पहुंचने तक, जो भी पहले हो, पद धारण करता है। अध्यक्ष यूपीएससी के कामकाज की देखरेख करने और यह सुनिश्चित करने के लिए जिम्मेदार है कि यह निष्पक्ष और निष्पक्ष तरीके से किया जाता है। वह संगठन के वित्त के प्रबंधन और यह सुनिश्चित करने के लिए भी जिम्मेदार है कि इसकी गतिविधियों को आवंटित बजट के भीतर किया जाता है।

यूपीएससी के पहले अध्यक्ष

यूपीएससी के पहले अध्यक्ष सर रॉस बार्कर थे। सर रॉस बार्कर को 1 अक्टूबर 1926 को यूपीएससी के पहले अध्यक्ष के रूप में नियुक्त किए गए थे। और 1932 में उनकी सेवानिवृत्ति तक छह साल तक पद पर रहे। वह एक अनुभवी सिविल सेवक थे और उन्होंने ब्रिटिश भारत सरकार में कई महत्वपूर्ण पदों पर कार्य किया था। सर रॉस बार्कर ने UPSC को एक विश्वसनीय और निष्पक्ष भर्ती एजेंसी के रूप में स्थापित करने और इसकी भविष्य की सफलता की नींव रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

सर रॉस बार्कर का योगदान

यूपीएससी के पहले अध्यक्ष के रूप में अपने कार्यकाल के दौरान, सर रॉस बार्कर ने संगठन में कई महत्वपूर्ण योगदान दिए। उन्होंने यूपीएससी को एक विश्वसनीय और निष्पक्ष भर्ती एजेंसी के रूप में स्थापित करने और यह सुनिश्चित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई कि भर्ती प्रक्रिया निष्पक्ष और पारदर्शी तरीके से आयोजित की जाए। उन्होंने यूपीएससी और भर्ती प्रक्रिया में सुधार के लिए कई महत्वपूर्ण सिफारिशें भी कीं।

संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी), भारत के अध्यक्षों की सूची:

  1. सर रॉस बार्कर (1926-1932)
  2. सर थॉमस इंग्लैंड (1932-1937)
  3. सर मौरिस ग्वायर (1937-1941)
  4. सर पॉल हाली (1941-1946)
  5. सर जी.डी. बिड़ला (1946-1951)
  6. डॉ. बी.आर. राजम (1951-1956)
  7. डॉ. एस.ए. डांगे (1956-1961)
  8. डॉ. एसराधाकृष्णन (1961-1962)
  9. श्री बी.डी. जट्टी (1962-1967)
  10. श्री एस.एल. शकधर (1967-1972)
  11. श्री एल.पी. सिंह (1972-1977)
  12. श्री ए.डी. जैन (1977-1982)
  13. श्री आर.के. त्रिवेदी (1982-1987)
  14. श्री के.आर. नारायणन (1987-1990)
  15. श्री पी.के. कौल (1990-1993)
  16. श्री आर. बसंत (1993-1996)
  17. श्री एम. श्रीधरन (1996-1999)
  18. श्री पी.सी. होता (1999-2002)
  19. श्री पी. रामानुजम (2002-2005)
  20. श्री एस.के. मेंदिरत्ता (2005-2008)
  21. श्री रवींद्र एम. ढोलकिया (2008-2011)
  22. श्री विनय मित्तल (2011-2014)
  23. श्री डेविड आर. सिम्लिह (2014-2017)
  24. श्री अलका सिरोही (2017-2020)
  25. श्री प्रदीप कुमार जोशी (2020-2023)

Leave a Comment