क्रिप्टोकरेंसी में निवेश: क्या करें और क्या न करें | Investing in Cryptocurrencies: Do’s and Don’ts

डर और लालच दो भावनाएं हैं जो ट्रेडिंग के दौरान आवेगपूर्ण निर्णय लेती हैं। क्रिप्टोकरेंसी में निवेश करना पैसा कमाने का एक आसान तरीका नहीं है.

पैसा पैसे को आकर्षित करता है। क्रिप्टो इंडस्ट्री के लिए यह कहावत सच बैठती है। विभिन्न मीडिया स्रोतों के अनुसार, ग्लोबली 300 मिलियन से अधिक लोग क्रिप्टोकरेंसी रखते हैं और उनका उपयोग करते हैं, अकेले भारत में 100 मिलियन user हैं। लेकिन, क्योंकि इस asset class को रेगुलेट नहीं किया गया है। इसके अलावा यह तथ्य है कि ट्रांजेक्शन, क्रिप्टो Blockchain नेटवर्क पर गुमनाम रूप से होता है, इसलिए कोई भी इसके origin का पता नहीं लगा सकता है।

क्रिप्टोकरेंसी से निपटने के लिए भारत संसद के आने वाले budget session में अपनी क्रिप्टो coin और रेगुलेशन बिल ला सकता है, लेकिन ऐसा होने तक, investors को समझदार होना चाहिए और क्रिप्टो इन्वेस्ट decision सावधानी से लेना चाहिए।

> Cryptocurrency क्या है? क्रिप्टोकरेन्सी की पूरी ABC सिर्फ आपके लिए

क्या करें और क्या ना करें:

सोशल मीडिया में चल रही हर बात पर विश्वास न करें।

सोशल मीडिया में अक्सर मशहूर सेलिब्रिटी किसी एक crypto coin का समर्थन करते दिख जायेंगे। Flow के साथ मत बहिये जिसको हम आसान भाषा में भेड़ चाल कहते हैं। क्रिप्टो टोकन के पीछे की प्रोजेक्ट को समझने की कोशिश करें जिसमें आप इंट्रेस्ट रखते हैं। यदि आप इसको समझ जाते हैं तभी इसमें इन्वेस्ट करें। उदाहरण के लिए, आपने कई ‘meme’ क्रिप्टो टोकन देखे होंगे, जिनमें से कुछ ने astronomical gains पोस्ट किया है। लेकिन ये पूरी तरह से कोई सेलिब्रिटी या अन्य user द्वारा पब्लिसिटी के कारण बढ़ गए हैं। इसे ‘Pumped Up Community-Driven Trasing Hypes’ कहा जाता है। इसके झांसे में न आएं। Specific क्रिप्टोकरेंसी के सही उद्देश्य को समझें और तभी निवेश करें जब आप उनके बारे अपनी रिसर्च के अनुसार सकारात्मक सोचें।

सोशल मीडिया में कई सेल्फ–स्टाइल (independent) एडवाइजर भी हैं। उनसे आप दूरी बनाये रखें। हाल ही में, भारत के सबसे बड़े स्टॉकब्रोकर Zerodha के CEO, Nithin kamath ने ट्वीट किया कि user अपनी पसंदीदा हस्तियों का आँख बंद करके फॉलो करते हैं जो विभिन्न क्रिप्टो और Non Fungible Token (NFT) में सक्रिय हैं या किसी specific coin का सपोर्ट करते हैं।

> क्रिप्टोकरेंसी के साथ पैसा कैसे कमाएं: A Beginner’s Guide

क्रिप्टो में इन्वेस्ट इसीलिए न करें क्योंकि आपके पड़ोसी ने भी ऐसा किया था:

कोई भी दो invester एक जैसे नहीं होते। विशेष रूप से इन्वेस्ट कई फैक्टर्स पर आधारित होना चाहिए जैसे कि इन्वेस्टर की रिस्क उठाने की क्षमता, एक्सपेक्टेड रिटर्न, समय परिधि और अन्य। इन फैक्टर्स के आधार पर investors को यह देखने की जरूरत है कि क्या कोई विशेष Instrument, asset allocation में फिट बैठता है या नहीं। इसलिए इन्वेस्ट का तरीका भी अलग होगा। और यह सभी इन्वेस्टों के लिए सच है, न कि केवल क्रिप्टो के लिए।

हालांकि, यह देखते हुए कि कई investor युवा हैं और इस एसेट क्लास में रुचि रखते हैं, लेकिन डिटेल्स से जागरूक नहीं हैं, वे अपने साथियों की बातों से प्रभावित हो जाते हैं।

चूंकि क्रिप्टोकरेंसी एक अनियमित मुद्रा है, इसलिए कुछ गलत होने पर इसका कोई माई बाप नहीं है। निवेशकों को इन मुद्रा से जुड़े जोखिमों से सावधान रहना चाहिए और गहन शोध करना चाहिए। सिर्फ इसलिए कि आपका दोस्त क्रिप्टो में इन्वेस्ट करके हाई रिटर्न पाने के लिए भाग्यशाली था, इसका मतलब यह नहीं है कि आपके साथ भी ऐसा ही होगा। अपना खुद का रिसर्च करें और उसके अनुसार इन्वेस्ट करें।

जल्दबाज़ी मैं पैसे बनाने की कोशिश मत करें:

क्रिप्टो एक अत्यंत अस्थिर संपत्ति है, और क्योंकि coins का 24 घंटे कारोबार किया जाता है तो मूल्यों में तेजी से उछाल आ सकता है। क्रिप्टोक्यूरेंसी एसेट अन्य एसेट क्लास की तुलना में significant नई हैं और बड़ी मात्रा में अस्थिरता रिस्क वहन करती हैं। यह जल्दी पैसा बनाने का तंत्र नहीं है। जब क्रिप्टो assets की बात आती है, तो किसी को इन्वेस्ट की मूल बातें नहीं खोनी चाहिए।

> सबसे सुरक्षित क्रिप्टोकरेंसी कौन सी है?

संदेहजनक ICOs से सावधान रहें:

Initial Coin Offerings (ICOs) स्टॉक Initial Public Offerings (IPOs) के समान हैं। यह तब होता है जब कोई कंपनी बड़े पैमाने में पब्लिक डिस्ट्रीब्यूशन के लिए अपने फर्स्ट बैच के टोकन बनाती है। लेकिन IPO के दौरान स्टॉक जारी करने वाली सार्वजनिक कंपनियों के विपरीत, क्रिप्टो कंपनियों के पास कोई सिद्ध तथ्य या ट्रैक रिकॉर्ड नहीं होता है। वे बस अपनी क्रिप्टो प्रोजेक्ट के विजन को लोगों को बेच रहे हैं जो सफल हो भी सकता है और नहीं भी। इसलिए किसी भी ICO में इन्वेस्ट करने से पहले, यदि उपलब्ध हो तो उसका whitepaper पढ़ें। U.S. सिक्योरिटीज एंड एक्सचेंज कमीशन (SEC) ने 2017 में ICOs के बारे में एक डिटेल रिपोर्ट पेश की। इसमें कहा गया है: “…इन्वेस्टरों को यह समझना चाहिए कि आज तक SEC के साथ कोई initial coin offerings रजिस्टर नहीं किया गया है … जैसा कि किसी अन्य प्रकार के potential इन्वेस्ट के साथ होता है। यदि कोई प्रमोटर रिटर्न की गारंटी देता है, यदि कोई ऑपरचुनिटी सच होने के लिए बहुत अच्छा लगता है, या यदि आप पर जल्दी से एक्शन करने के लिए दबाव डाला जाता है, तो कृपया अत्यधिक सावधानी बरतें और रिस्क से अवगत रहें कि आपका इन्वेस्ट किया गया पैसा डूब सकता है।

जोखिम-सहनशीलता के अपने स्तर को पहचानें:

Risk free संपत्ति जैसी कोई चीज नहीं होती है। यहां तक ​​कि दुनिया की सबसे मूल्यवान संपत्ति, सोने में इन्वेस्ट करने के भी अपने रिस्क हैं, तो क्रिप्टो भी अलग नहीं है। उन रिस्कों को ठीक से समझें और केवल तभी जब आप उनके साथ सहज हों, इसका लाभ उठाएं। उदाहरण के लिए, यदि आप 500 रुपये कमाने के लिए 1,00,000 रुपये का रिस्क उठा रहे हैं, तो यह एक recommended इन्वेस्ट choice नहीं है।

किसी भी संपत्ति की तरह व्यापक आर्थिक कारक भी क्रिप्टो को प्रभावित करते हैं। निवेशकों को यह ध्यान रखना चाहिए कि जोखिम और लाभ साथ-साथ चलते हैं और उन्हें किसी भी मुद्रा या संपत्ति में खरीदने से पहले अपना खुद का रिसर्च करने की आवश्यकता होती है – न कि केवल क्रिप्टो में ही।

आखरी शब्द

हर निवेशकों का जोखिम-लाभअलग-अलग होता है। यह पता लगाने की कोशिश करें कि आप इस रिटर्न को अर्जित करने के लिए कितना पूंजी रिस्क उठाने को तैयार हैं। यह एक मुश्किल क्षेत्र है, इसलिए सलाह दी जाती है कि अपनी रिस्क उठाने की क्षमता का पता लगाने के लिए किसी फाइनेंशियल एडवाइजर से सलाह लें।

यह भी पढ़ें:
2022 में क्रिप्टोकरेंसी से पैसे कमाने के 9 तरीके
क्रिप्टोकरेंसी का आविष्कार किसने किया?
क्या आप क्रिप्टोकरेंसी में दिवालिया हो सकते हैं?
अपनी क्रिप्टो करेंसी हैक होने से बचाएँ | क्रिप्टोकरेंसी को सुरक्षित स्टोर रखने के 10 तरीके

Leave a Comment